JNU : कन्हैया, उमर, अनिर्बान को राहत, अनुशासनात्मक कार्रवाई पर दिल्ली HC की रोक

नई दिल्ली (13 मई) :  जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार को दिल्ली हाईकोर्ट से बड़ी राहत मिली है। हाईकोर्ट ने कन्हैया कुमार, उमर खालिद, अनिर्बान भट्टाचार्य और अन्य पर यूनिवर्सिटी प्रशासन की और से की गई अनुशासनात्मक कार्रवाई पर रोक लगा दी है। ये रोक सशर्त लगाई गई है। कोर्ट के आदेश के मुताबिक यूनिवर्सिटी में चल रही भूख हड़ताल खत्म की जाएगी और भविष्य में वे यूनिवर्सिटी परिसर में कोई आंदोलन नहीं करेंगे।

उच्च न्यायालय ने कन्हैया और अन्य के खिलाफ जेएनयू की अनुशासनिक कार्रवाई पर तब तक रोक लगाई जब तक विश्वविद्यालय के आदेश के खिलाफ उनकी अपनी अपील पर अपीलीय प्राधिकरण निर्णय नहीं कर लेता है।

इससे पहले कोर्ट ने कन्हैया से कहा था कि वो जेएनयू छात्रों की भूख हड़ताल खत्म कराएं,तभी कोर्ट उनकी याचिका पर सुनवाई करेगी। इस साल 9 फरवरी को आयोजित हुए विवादास्पद समारोह के चलते कन्हैया, अनिर्बान और उमर पर देशद्रोह का आरोप लगाया गया था।

इनपर विश्वविद्यालय ने 10 हजार रुपए का जुर्माना लगाया था। 9 फरवरी को जेएनयू में हुए इस विवादित समारोह के संबंध में उच्च स्तरीय जांच समिति की रिपोर्ट के आधार पर इन तीनों और कुछ अन्य छात्रों के खिलाफ विभिन्न कार्रवाइयां की गई थीं। इनमें बर्खास्तगी से लेकर, विश्वविद्यालय में आने पर प्रतिबंध और जुर्माना आदि शामिल हैं। याचिकाकर्ताओं ने अदालत का रूख करके विश्वविद्यालय द्वारा इनपर लगाए गए जुर्मानों को चुनौती दी थी।