हाईकोर्ट ने दिल्ली विधानसभा स्पीकर को भेजा नोटिस

प्रभाकर मिश्रा, नई दिल्ली (11 जुलाई): दिल्ली विधानसभा में हंगामा करने के आरोपियों जगदीप राणा और राजन कुमार को जेल भेजने के मामले में दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली विधानसभा स्पीकर और दिल्ली सरकार को नोटिस जारी किया है। हाईकोर्ट ने जगदीप राणा और राजन कुमार को प्रोडक्शन वारंट भी जारी किया है जो सोमवार को कोर्ट में पेश होंगे। हाईकोर्ट ने ये नोटिस जगदीप राणा और राजन कुमार की उस याचिका पर जारी किया है जिसमें इन दोनों ने एक महीने की जेल की सजा को चुनौती दी है।


दिल्ली विधानसभा के विशेष सत्र के दौरान 28 जून को आम आदमी पार्टी के नेता जगदीप राणा और राजन कुमार मदान ने विधानसभा की गैलरी से दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन के खिलाफ पोस्टर दिखाते हुए जैन के इस्तीफे की मांग की। इस दौरान विधानसभा में हंगामे का माहौल हो गया था। विधानसभा स्पीकर रामनिवास गोयल ने इन दोनों को एक एक महीने की जेल की सजा सुनाई थी।


सुनवाई के दौरान दिल्ली सरकार की तरफ से पेश वकील ने याचिकाकर्ता के दलील का विरोध करते हुए सवाल किया कि याचिकाकर्ता स्पीकर के अधिकारों पर सवाल नहीं खड़ा कर सकते। इस पर हाईकोर्ट ने याचिकाकर्ताओं जगदीप राणा और राजन कुमार के वकील से पूछा कि उनके दोनों मुवक्‍क‍िल क्या भगत सिंह बनना चाहते थे! हम लोग आज आजाद हिन्दुस्तान में रहते हैं। लिहाजा वो साफ करें कि क्या स्पीकर की दी गई सजा को वो कोर्ट में चुनौती दे रहे हैं या नहीं!

याचिकाकर्ता ने अदालत से ये कहा था कि उसे गैरकानूनी तरीके से गिरफ्तार किया गया है और ये हैबियस कॉर्पस (बंदी प्रत्‍यक्षीकरण) का मामला है, लेकिन कोर्ट ने याचिकाकर्ता को कहा कि ये मामला हैबियस कॉर्पस का नहीं बल्कि उसे कानून के द्वारा विधानसभा अध्यक्ष को दिए गए शक्तियों के तहत गिरफ्तार किया गया है। कोर्ट के निर्देश पर याचिकाकर्ताओं ने याचिका में संशोधन कर फिर विधानसभा स्पीकर की गिरफ्तारी के आदेश को चुनौती दी है।