तिहाड़ में 6 दिन की सज़ा काटेंगे कॉमेडियन राजपाल यादव, जानिए क्यों?

 नई दिल्‍ली (4 जून) बॉलिवुड अभिनेता राजपाल यादव को दिल्ली हाईकोर्ट ने 15 जुलाई तक तिहाड़ जेल में सरेंडर करने और पहले दी गई सज़ा के बचे हुए 6 दिन काटने का आदेश दिया।  

राजपाल यादव को यह सजा झूठा हलफनामा दायर करने के लिए 2013 में दी गई थी। उल्‍लेखनीय है कि यादव ने 3 से 6 दिसंबर 2013 तक जेल में चार दिन काटे थे, जिसके बाद हाईकोर्ट की खंडपीठ ने उनकी अपील पर सजा निलंबित कर दी थी।

न्यायमूर्ति एस रवींद्र भट्ट और न्यायमूर्ति दीपा शर्मा की पीठ ने दिसंबर 2013 में सिंगल बेंच की ओर से राजपाल यादव को दी गई सजा बरकरार रखी। कोर्ट ने कहा कि प्रक्रिया का पालन करने में यादव की नाकामी को स्वीकारा नहीं जा सकता। उनको अपने आचरण के बारे में स्पष्टीकरण देने के लिए पर्याप्त समय दिए जाने के बावजूद वह झूठ पर कायम रहे।

दरअसल, इस मामले की शुरुआत तब हुई जब दिल्ली के कारोबारी एमजी अग्रवाल ने पांच करोड़ रुपये के ऋण भुगतान में नाकाम रहने पर अभिनेता और उनकी पत्नी के खिलाफ वसूली वाद दायर किया था। यादव ने वर्ष 2010 में निर्देशक के रूप में पहली फिल्म बनाने के लिए ऋण लिया था। यादव पर आरोप है कि उस मामले में अदालत को गुमराह करने के लिए उन्‍होंने झूठा हलफनामा दायर किया था।