6 साल बाद दिल्ली टू गुरुग्राम बस 30 मिनट में


नई दिल्ली(23 अप्रैल): लोग आने वाले 6 साल में सिर्फ आधे घंटे में दिल्ली से गुरुग्राम पहुंचे सकेंगे। दिल्ली से अलवर के बीच प्रस्तावित रैपिड रेल के निर्माण के बाद दोनों शहरों के बीच की 90 मिनट की दूरी महज 30 मिनट में ही पूरी हो जाएगी। इस रेल लिंक के 2023 से शुरू होने की उम्मीद है।


- एनसीआरटीसी की ओर से रैपिड रेल के निर्माण के लिए शनिवार को हुई हाई लेवल मीटिंग में कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर विनय कुमार सिंह ने बताया कि दिल्ली से अलवर की 180 किलोमीटर लंबी इस लाइन के लिए कंपनी का बोर्ड अगले दो महीने में मंजूरी दे देगा। उसके बाद तीन महीने में दिल्ली, राजस्थान और हरियाणा सरकारों की मंजूरी ले ली जाएगी। इसके बाद कंपनी चाहती है कि अगले एक साल में इस लाइन का निर्माण कार्य शुरू कर दिया जाए। प्रस्तावित हाई स्पीड रैपिड रेल के निर्माण के बाद यात्री दिल्ली से रेवाड़ी होते हुए अलवर तक महज 104 मिनट में पूरा कर सकेंगे। वहीं कश्मीरी गेट से गुरुग्राम साइबर सिटी की दूरी महज 30 मिनट में ही पूरी हो जाएगी।


- रैपिड रेल के निर्माण के लिए बनाई गई सरकारी कंपनी एनसीआरटीसी का प्लान है कि अगले पांच साल में मंजूरी की सारी प्रक्रियाएं पूरी कर ली जाएं और एक साल में रैपिड रेल का निर्माण शुरू कर दिया जाए। उम्मीद की जा रही है कि निर्माण शुरू होने के छह साल के भीतर यह काम पूरा हो जाएगा।


- उन्होंने बताया कि यह लाइन दिल्ली में कश्मीरी गेट बस अड्डे से शुरू होगी और नई दिल्ली रेलवे स्टेशन, आईएनए और धौला कुआं होते हुए जाएगी। 180.50 किलोमीटर की इस लाइन में 56 किमी का हिस्सा अंडरग्राउंड होगा और बाकी 127 किलोमीटर का हिस्सा एलिवेटिड होगा। उन्होंने बताया कि कश्मीरी गेट से शुरू होकर हरियाणा के साइबर सिटी तक यह रैपिड रेल अंडरग्राउंड ही होगी और उसके बाद यह एलिवेटिड हो जाएगी। ऐसे में रैपिड रेल के लिए जमीन के अधिग्रहण की जरूरत नहीं होगी।


- उन्होंने बताया कि जो प्लान किया गया है उसके मुताबिक रैपिड रेल का डिजाइन 180 किलोमीटर की स्पीड से चलने का होगा लेकिन इसे 160 किलोमीटर की रफ्तार से चलाया जाएगा। जिससे इसकी औसत रफ्तार 105 किमी प्रति घंटा आएगी। इससे दिल्ली से लेकर अलवर तक का सफर महज 104 मिनट में पूरा किया जा सकेगा। इस पूरे प्रॉजेक्ट पर 37 हजार 539 करोड़ रुपये खर्च होंगे। इस रूट पर जरूरत के मुताबिक पांच से दस मिनट में ट्रैन चलाई जाएगी। छह कोच वाली इस ट्रेन में एकसाथ 1154 यात्री सफर कर सकेंगे।