दिल्ली: 13-17 नवंबर तक 'ऑड ईवन' लागू, धोए जा रहे हैं पेड़

नई दिल्ली ( 9 नवंबर ): देश की राजधानी दिल्ली में जहरीली हवा और धुंध की वजह से सांस लेना मुश्किल हो गया है। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (NGT) में गुरुवार सुबह प्रदूषण को लेकर सुनवाई हुई। सुनवाई में NGT ने दिल्ली सरकार, एमसीडी और पड़ोसी राज्यों को कड़ी फटकार लगाई है। फटकार के बाद अब ऑड इवन पर बड़ा फैसला लिया है। दिल्ली में 13 से 17 नवंबर ऑड इवन लागू कर दिया गया है। दिल्ली में ऑड इवन का यह तीसरा चरण होगा। 13, 15 और 17 नवंबर को आॅड नंबर की गाड़ियां चलेंगी और 14-16 नवंबर को ईवन नंबर की गाड़ियां चलेंगी। 

सुनवाई के दौरान NGT ने कहा कि आप अस्पताल जाइए और देखिए लोगों को किस तरह की परेशानी हो रही है। आपने लोगों की जिंदगी के साथ खिलवाड़ किया हुआ है। NGT में प्रदूषण के मामले पर अगली सुनवाई 14 नवंबर को होगी। 

एनजीटी की फटकार के बाद दिल्ली सरकार हरकत में आई है। दिल्ली सचिवालय के पास प्रदूषण को कम करने के लिए पेड़ों को धोया जा रहा है। इस काम में फायर ब्रिगेड के लोगों को लगाया गया है। 

सुनवाई के दौरान NGT ने कहा कि आज सुनवाई होनी है इसलिए कल ही आदेश जारी कर दिया गया था। आप सभी पक्षों के लिए ये शर्मनाक है कि आप आने वाली पीढ़ी को क्या दे रहे हैं। NGT ने फटकार लगाते हुए कहा कि खुलेआम निर्माण कार्य चल रहा है लेकिन आप लोग रोक नहीं लगा पा रहे हैं, ऐसे हालात बनते हैं तभी आप कहते हैं कि कार्रवाई कर रहे हैं। 

NGT ने फटकार लगाते हुए कहा कि अभी तक प्रदूषण को रोकने में सभी पक्ष फेल रहे हैं, प्रदूषण को रोकना सभी की जिम्मेदारी है। NGT ने कहा कि आर्टिकल 21 और 48 के तहत नागरिक का अधिकार है कि उसे सांस लेने के लिए साफ वातावरण मुहैया कराया जाए। लोगों से जीने का अधिकार छीना जा रहा है, लोगों को साफ वातावरण नहीं मिल रहा है। NGT ने आदेश दिया है कि अगले आदेश तक कोई भी इंडस्ट्रियल एक्टविटी (औद्योगिक गतिविधि) ना हो।