दवाइयों के लिए दिल्ली सरकार ने शुरू किए एप, हेल्पलाइन

नई दिल्ली (3 फरवरी): दिल्ली सरकार ने नागरिकों के लिए एक हेल्पलाइन शुरू की है, जिसपर नागरिक उन दवाओं के नाम मैसेज कर सकते हैं जो सरकारी अस्पतालों की फार्मेसियों में उपलब्ध नहीं हो पा रही हैं। इसके अलावा सरकार ने एक मोबाइल एप भी लॉन्च किया गया है, जिसपर मेडिकल परामर्श की फोटोग्राफ्स भी अपलोड की जा सकती हैं। 

'हिंदुस्तानटाइम्स' की रिपोर्ट के मुताबिक, लोग 8745051111 नंबर पर दवाइयों के नाम एसएमएस कर सकते हैं। या गूगल प्ले स्टोर से एप डाउनलोड कर सकते हैं। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने बताया, "एक बार व्यक्ति किसी दवाई का नाम भेजता है या प्रिस्क्रिप्शन अपलोड करता है, तो सीपीए से किसी व्यक्ति को वापस उन्हें बताना होगा कि अस्पताल में ये दवाइयां कब उपलब्ध होंगी। इसमें 6 से 24 घंटे का समय लग सकता है। कभी कभी एक दवाई जो किसी एक अस्पताल में ही उपलब्ध है वह किसी दूसरे सरकारी अस्पताल में स्टॉक में हो सकती है या सीपीए के वेयरहाउस में।" 

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पिछले महीने वादा किया था कि डॉक्टर्स की तरफ से बताई गई सभी दवाइयों को सभी अस्पतालों की फार्मेसीस में 1 फरवरी से उपलब्ध कराया जाएगा। सरकार ने ऐसा यह सुनिश्चित करने के लिए भी किया है कि सरकारी डॉक्टर्स जरूरी दवाइयों की सूची से ही परामर्श देते थे। उन्हें भी आदेश जारी कर हर प्रिस्क्रिप्शन पर 1 फरवरी से डॉक्टर्स को उनके नाम, साइन लिखने और स्टैंप लगाने के लिए कहा गया। आदेश में कहा गया कि जो डॉक्टर्स इन नियमों का पालन नहीं करेंगे उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी।