दिल्ली पर बढ़ा बाढ़ का खतरा, बंद किया गया लोहे का पुल

Delhi Flood न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (19 अगस्त): दिल्ली पर लगातार बाढ़ खतरा बढ़ता जा रहा है। दिल्ली में 40 साल बाद इस तरह का बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है। राजधानी दिल्ली पर मंडराते बाढ़ के खतरे के मद्देनजर दिल्ली की केजरीवाल सरकार अलर्ट मोड पर है। दिल्ली के सीएम ने अरविंद केजरीवाल का कहना है कि उनकी सरकार 24 घंटे स्थिति पर नजर बनाए हुई है। उन्होंने लोगों से शाम 6 बजे तक राज्य सरकार द्वारा बनाए गए टेंट में पहुंच जाने का आग्रह किया है। राज्य सरकार ने लोगों की मदद के लिए हेल्पलाइन नंबर भी जारी कर दिया है। अरविंद केजरीवाल ने  प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि राज्य सरकार निचले इलाकों से लोगों को निकाल रही है। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार की पहली प्राथमिकता है कि किसी प्रकार के जान का नुकसान नहीं हो।

YAMUNA

दिल्ली सरकार ने स्थिति से निपटने के लिए हेल्पलाइन नंबर भी जारी कर दिए हैं। सरकार ने कहा कि आने वाले दो दिन काफी गंभीर हैं। किसी प्रकार की मदद के लिए 011-22421656 और 011- 21210849 पर कॉल की जा सकती है। यमुना नदी का जलस्तर सोमवार सुबह 9 बजे 204.70 मीटर पर पहुंच चुका था। यह चेतावनी के निशान 204.50 मीटर के पार है। हालांकि अब खतरे का नया निशान 205.33 मीटर घोषित किया गया है, जिसे यमुना शाम तक पार कर लेगी।

पहाड़ों के साथ-साथ मैदानों में भी पानी का प्रहार हो रहा है। राजधानी दिल्ली में बाढ़ का रेड सिग्नल है। हरियाणा के हथिनीकुंड बैराज से कल शाम 7 बजे 8 लाख 14 हजार 3 सौ 97 क्यूसेक पानी छोड़ा गया। जिसकी वजह से दिल्ली में यमुना नदी खतरे के निशान के पास पहुंच गई है। रविवार को यमुना का जलस्तर 203.37 मीटर तक पहुंच गया था, जिसके बाद अब कयास लगाए जा रहे हैं कि हथिनीकुंड बैराज से छोड़े गए पानी के बाद आज यमुना नदी का जलस्तर 207 मीटर तक पहुंच सकता है।

साफ है कि दिल्ली के तटवर्ती इलाकों पर बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है। इसे देखते हुए दिल्ली सरकार और प्रशासन भी अलर्ट मोड पर हैं। अभी से लोगों को अलर्ट करने के लिए चेतावनी जारी की जा रही है। लोगों को सुरक्षित जगहों तक पहुंचाने के लिए पुलिस और स्वयंसेवकों की टीम को लगाया गया है। माना जा रहा है कि यमुनानगर के हथिनीकुंड से छोड़ा गया पानी दिल्ली में किसी भी वक्त दस्तक दे सकता है। जो अपने साथ आफत का सैलाब भी ला सकता है। ऐसे में लोगों के लिए टेंट लगाने का काम भी जारी है। जहां पर लोगों को सुरक्षित रखा जा सके।

पूर्वी दिल्ली जिला ने एक आदेश में कहा है, 'भारी बारिश के कारण जल स्तर बढ़ रहा है और साथ ही हथिनी कुंड बैराज से पानी छोड़े जाने और यमुना का जल स्तर सोमवार को 207 मीटर तक बढ़ सकता है। इससे जान माल के नुकसान का खतरा पैदा हो गया है।' सभी उप-विभागीय मजिस्ट्रेटों को सोमवार सुबह 9 बजे तक दिल्ली पुलिस और नागरिक सुरक्षा स्वयं सेवकों की मदद से निचले इलाकों के लोगों को निकालने का निर्देश दिया गया है।

आपको बता दें कि हथिनी कुंड बैराज से पानी छोड़े जाने के बाद यमुनानगर की सड़कें जल मग्न हो गई हैं। यमुनानगर की सड़कों पर लोगों के सीने तक पानी बह रहा है। हालात की गंभीरता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि राष्ट्रीय राजमार्ग पर कई बाइक, कार, बस और ट्रक बहते देखे गए। मकान से लेकर दुकान तक, हर तरफ पानी भरा हुआ है. पानी के कारण वाहनों के पहिए थम गए। यमुनानगर के हालात को देखते हुए भी दिल्ली प्रशासन अतिरिक्त सतर्कता बरत रहा है।

ज्यादा जानकारी के लिए देखिए न्यूज 24 की ये रिपोर्ट...