दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा - 15 जनवरी तक जारी रहेगा ऑड-ईवन फॉर्मूला

नई दिल्ली (11 जनवरी): दिल्ली के ऑड ईवन फॉर्मूले के भविष्य पर सोमवार को हाईकोर्ट ने मुहर लगा दिया है। ऑड-ईवन फॉर्मूले के खिलाफ दाय़र याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने शुक्रवार को अपना फैसला वार तक के लिए सुरक्षित रखा था। लेकिन हाईकोर्ट के फैसले के साथ ही अब ये भी तय हो गया कि ये फॉर्मूला 15 जनवरी तक चलेगा।

इस फॉर्मूले के खिलाफ हाईकोर्ट में 8 याचिकाएं दायर की गई थी। शुक्रवार को हाईकोर्ट में याचिकाकर्ता के वकील और दिल्ली सरकार के बीच लंबी जिरह हुई। प्रदूषण की कमी पर तरह तरह के आंकड़े पेश किए गए। लेकिन हाईकोर्ट की निगाहें सरकार से आंकड़े पर टिकी थी।   शुक्रवार को कोर्ट में क्या हुआ? कोर्ट ने कहा- डाटा बताइए, जिससे ये साबित होता हो कि इस फॉर्मूले से पॉल्यूशन कम हुआ है। दिल्ली सरकार - विंटर में पॉल्यूशन ज्यादा होता है। स्टडी बताती है कि असर तो पड़ा है। पीक आवर्स में पॉल्यूशन कम हुआ है। जनवरी 5 को पीएम लेवल 391 था, जो दिसंबर से काफी कम है। दिसंबर में पीएम लेवल 500 था। रिपोर्ट के अनुसार सरकार के इस दावे को खारिज करने के लिए याचिकर्ताओं ने सेंट्रल पोल्यूशन कंट्रोल बोर्ड की रिपोर्ट दाखिल की।

कितना कम हुआ प्रदूषण ? पंजाबी बाग - दिसंबर महीने में पीएम 2.5 स्तर पंजाबी बाग इलाके में 200 से 340 प्वाइंट तक था। जनवरी में पीएम 2.5 स्तर पंजाबी बाग इलाके में 240 से 471 प्वाइंट तक पहुंच गया। आनन्द विहार - दिसंबर महीने में पीएम 2.5 स्तर पंजाबी बाग इलाके में 260 से 510 प्वाइंट तक था। जनवरी में पीएम 2.5 स्तर पंजाबी बाग इलाके में 291 से 458 प्वाइंट तक पहुंच गया। मन्दिर मार्ग - दिसंबर में पीएम 2.5 लेवल 90 से 339 प्वाइंट था। जनवरी में 1-7 तक पीएम 2.5 लेवल 150 से 359 तक पहुंच गया।