Blog single photo

ATM से पैसे निकालने से पहले सावधान, एटीएम गए ...तो समझो लुट गए !

एटीएम में आपकी गाढ़ी कमाई खतरे में है। भले ही एटीएम कार्ड आपके पास ही हो। लेकिन, ये गारंटी नहीं कि आपके खाते में पैसे सुरक्षित हों। बिना कार्ड के ही आपका खाता साफ हो सकता है। क्योंकि, आप पर काली नजर रखने वाले शातिर अपराधियों ने एटीएम मशीन में ही लगा दी है बड़ी सेंध। साइबर चोरों ने एटीएम मशीन में ऐसी सेंधमारी की है कि पल भर में ही आपके खाते साफ हो जाएंगे। यानि, जब भी आप पैसे निकालेंगे। समझिए अपनी मुसीबत को बुलाएंगे।

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (18 नवंबर): क्या आप अक्सर एटीएम से पैसे निकालते हैं तो ये खबर आपके लिए हैं। ये खबर आपको अलर्ट करने के लिए है। अगर आप ये सोच रहे होंगे कि बैंक में पैसे रखकर आप चैन की नींद सो पाएंगे तो यकीन मानिए, आपका पैसा सुरक्षित नहीं है। क्योंकि, सायबर ठगों ने ऐसे ऐसे तरीके इज़ाद कर लिए हैं कि एटीएम कार्ड भले ही आपकी जेब में हो लेकिन, बावजूद इसके आपके खाते साफ हो सकते हैं। दरअसल हौजखास इलाके के गौतम नगर इलाके में रहने वाले ललित गोयल और स्टूडेंट प्रसेनजीत के खाते पर साइबर अपराधियों ने सेंधमारी कर हाथ साफ कर चुके हैं। बुजुर्ग सुरेश और राधिका नाम की इस महिला के खाते से भी पैसे निकाले गए।

खास बात ये कि इन सबके पैसे एक ही एटीएम मशीन से निकाले गए हैं। सभी के मोबाइल पर दिल्ली के हौजखास वाले इस ATM से पैसे निकाले जाने का मैसेज आया और सिर्फ इन चार लोगों के ही नहीं बल्कि, ऐसे 50 से ज्यादा लोगों के खातों पर साइबर अपराधियों ने हाथ साफ किया है। सभी पीड़ितों ने हौजखास थाने में मामला दर्ज कराया है। पुलिस ने एटीएम क्लोनिंग का खेल खेलने वाले दो शातिर अपराधियों को गिरफ्तार भी कर लिया है। गिरफ्तार आरोपी का नाम कृष्ण गोपाल और सुमित गोला है। जिला स्पेशल स्टाफ की टीम ने दोनों आरोपियों के पास से अलग-अलग बैंकों के 300 क्लोन्ड डेबिट और क्रेडिट कार्ड, देसी कट्टा, तीन कारतूस, स्कीमर डिवाइस, बैट्री और कैमरा स्कैनर बरामद भी बरामद किया है। यहीं नहीं गिरफ्तार दोनों आरोपियों से पूछताछ में ये भी खुलासा हुआ है कि इन शातिर अपराधियों ने न सिर्फ दिल्ली-एनसीआर बल्कि महाराष्ट्र, ओडिशा, उत्तर प्रदेश, हरियाणा और मध्य प्रदेश के शहरों में भी एटीएम क्लोनिंग के जरिए बड़ी वारदातों को अंजाम दे चुका है। पुलिस को आशंका है कि एटीएम फ्रॉड करने वाले शातिर ठगों ने एटीएम मशीन में कार्ड रीडिंग चिप लगाई होगी जो ट्रांजेक्शन करने वालों के एटीएम का सारा डेटा रीड कर सेव कर लेती है, जिसके जरिए अपराधी एटीएम क्लोन कर लोगों के एकाऊंट में सेंध लगा देते है।

 

पूछताछ में आरोपी कृष्ण गोपाल और सुमित गोला ने बताया कि इन दोनों की कुछ समय पहले दोस्ती हुई थी। आरोपी कृष्ण पहले भी कटक में एटीएम कार्ड क्लोनिंग और लूट की वारदातों को अंजाम दे चुका था। कृष्ण गोपाल और सुमित ने सबसे पहले ऑनलाइन शॉपिंग साइट अलीबाबा से एटीएम कार्ड क्लोनिंग में उपयोग होने वाले स्कीमर, स्कैनर, कैमरा और बैटरी वगैरह मंगवाए। इसके बाद सभी को असेंबल कर उसे बिना सुरक्षाकर्मी वाले एटीएम बूथों के मशीन में लगाने शुरु किए। पुलिस की नजरों से बचने के लिए ये दोनों थोड़े थोड़े समय पर शहर बदल लिया करते थे। आरोपी कृष्ण और सुमित  स्कीमर के जरिए एटीएम कार्ड का पूरा डाटा कलेक्ट करते थे। उस डेटा को  जर्मनी में बैठे एक हैकर को भेजते थे।  हैकर, वीकर और टोटानोटा जैसे ऑनलाइन एप के जरिए भेजे गए स्कीमर के इनक्रीप्टेड डाटा को खोल कर खाता का ब्यौरा कृष्ण और सुमित को वापस भेज दिया करता था।  इसके लिए हैकर को 100 रुपये प्रति खाते से लेकर 12 सौ रुपये प्रति खाते बिटक्वाइन के रूप में भेजा करते थे। और, फिर, इसके बाद ये दोनों शातिर अपना शैतानी खेल शुरु करते थे।

ऐसे अपने खाते को रखें सुरक्षित

- जब भी पैसे निकालें मशीन को चेक करें कि, कहीं कोई स्किमिंग मशीन तो नहीं लगी है

- पासवर्ड एंटर करते वक्त अपने दूसरे हाथ की हथेली से कवर करें

- एटीएम में किसी दूसरे व्यक्ति को न मौजूद रहने दें

- किसी अनजान व्यक्ति से अपना एटीएम कार्ड देकर पैसे न निकलवाएं

- हर ट्रांजेक्जशन के बाद कैंसल बटन जरुर दबाएं

- फोन या सार्वजनिक स्थान पर किसी को अपना पासवर्ड न बताएं।

(Image Source: Google)

ज्यादा जानकारी के लिए देखिए न्यूज 24 की ये रिपोर्ट...

Tags :

NEXT STORY
Top