IMA की ट्रेनिंग पूरी कर सेना में शामिल हुए 409 नौजवान

dehradun passing out pared

नई दिल्ली (9 दिसंबर): देहरादून स्थित आईएमए से शनिवार को आयोजित पीओपी में 487 कैडेट पासआउट होकर अफसर बने। इनमें 409 भारतीय और 78 विदेशी कैडेट शामिल थे। ये  विदेशी कैडेट मित्र राष्ट्रों से थे। इसमें अफगानिस्तान से 46, भूटान से 15, कजाकिस्तान से 5, मालदीव 6, नेपाल से 2, श्रीलंका से 2, तजाकिस्तान से 2 कैडेट आईएमए से पास हाेकर अपने देशों में सैन्य अफसर बने। 

परेड की सलामी बांग्लादेश के सेना प्रमुख जनरल अबू बिलाल मोहम्मद शाह फिउल हक ने ली। शनिवार सुबह 8 बजकर 50 मिनट पर मार्कर्स कॉल के साथ परेड शुरू हुई। इसके बाद विभिन्न कंपनियों के सार्जेंट मेजर ने ड्रिल स्क्वायर पर अपनी-अपनी जगह ली।  भारत माता तेरी कसम, तेरे रक्षक बनेंगे हम गीत पर कदमताल करते जेंटलमैन कैडेट ड्रिल स्क्वायर पर पहुंचे, तो लगा कि विशाल सागर उमड़ आया है। एक साथ उठते कदम और गर्व से तने सीने दर्शक दीर्घा में बैठे हरेक शख्स के भीतर ऊर्जा का संचार कर रहे थे। इसके बाद परेड कमांडर चंद्रकांत आचार्य ने ड्रिल स्क्वायर पर जगह ली। कैडेट्स ने शानदार मार्चपास्ट से दर्शक दीर्घा में बैठे हर शख्स को मंत्रमुग्ध कर दिया। इधर, युवा सैन्य अधिकारी अंतिम पग भर रहे थे, तो आसमान से हेलीकाप्टर के पर पुष्प वर्षा कर कर रहे थे ।  इस मौके पर बांग्लादेश के सेना प्रमुख जनरल अबू बिलाल मोहम्मद शाह फिउल हक ने कहा कि भारत व बांग्लादेश के बीच वर्षों से दोस्ताना संबंध हैं। हमारी सिर्फ सीमाएं ही नहीं मिलती, बल्कि भारत बांग्लादेश में भौगोलिक, सामाजिक व सांस्कृतिक समानताएं भी हैं।