फाइनल से पहले 'नजरबंद' हुईं दीपा

 

नई दिल्ली(9 अगस्त): रियो ओलंपिक में फाइनल के लिए क्वालिफाई करने वाली भारतीय जिम्नास्ट दीपा कर्माकर को उनके कोच ने कमरे में बंद कर दिया है।

- कोच बीएस नंदी के मुताबिक 'दीपा के ऊपर काफी दबाव है। दीपा का आज जन्मदिन है। इस दिन सिर्फ उनके माता-पिता ही उनसे बात कर पाएंगे। कोच ने बताया कि दीपा के ऊपर अच्छे प्रदर्शन का दबाव बढ़ता जा रहा है। 

- जानकारी के मुताबिक कोच बीएस नंदी जो कि पिछले 16 सालों से दीपा के साथ हैं, उनके मोबाइल से सिम भी निकाल लिया है। दीपा के कमरे में भारतीय महिला भारोत्तोलक साईखोम मीराबाई चानू हैं। इसके अलावा नंदी ही कमरे के अंदर जा सकते हैं।

- नंदी ने कहा ' मैंने उसके मोबाइल से सिम कार्ड निकाल दिया है। सिर्फ उसके माता-पिता को उससे बात करने की अनुमति है। मैं उसका ध्यान भटकने नहीं देना चाहता। उसके जन्मदिन का जश्न इस क्षण के लिए इंतजार कर सकता है। मैं जो उसे छोटे ब्रेक देता हूं, उसमें सिर्फ उसके माता-पिता को ही उससे बात करने की अनुमति है। लेकिन ऐसा नहीं है कि उसे इससे परेशानी हो रही है। वह दोस्तों से अलग ही रहना पसंद करती है। 

14 अगस्त का इंतजार

गौरतलब है कि 14 अगस्त को दीपा जब फाइनल के लिए मैदान में उतरेंगी तो पूरे देश की निगाहें उनकी ओर होंगी। पूरा देश दुआ कर रहा है कि कम से कम दीपा के प्रदर्शन से ही भारत की झोली में एक पदक आ जाए।