50 लोगों के कातिल के पिता ने कहा- इस वजह से किया होगा नाइट क्‍लब पर हमला

वाशिंगटन (13 जून): फ्लोरिडा के गे नाइट क्लब में हुई अंधाधुंध फायरिंग को अमेरिका ने आतंकी हमला बताया है। राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा कि पूरा अमेरिका इस हमले के खिलाफ एकजुट है। 

ओरलैंडो हमले के बाद अमेरिकी जांच एजेंसी जिस नतीजे पर पहुंची है, उससे ये साफ है कि अमेरिकी इतिहास के सबसे बड़े शूटआउट के पीछे आतंकी का हाथ है। ये आतंकी कोई और नहीं बल्कि आईएस का कट्टर समर्थक उमर मतीन ही था। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक ISIS ने तीन दिन पहले ही फ्लोरिडा को लेकर बड़े हमले की धमकी भी दी थी। 

आईएस ने बताया 100 लोगों की मौत इस आतंकी वारदात को अंजाम देने वाला 29 साल का हमलावर उमर अफगानिस्तान से अपने माता-पिता के साथ 1986 में अमेरिका आया था और फ्लोरिडा में ही बस गया था। हमले के फौरन बाद इसी उमर मतीन के बारे में आईएस ने ट्वीट कर कहा हमारे लड़ाके ने अपना काम कर दिया। हालांकि इस बात की पुष्टि अमेरिकी जांच एजेंसी ने नहीं की है। लेकिन इस हमले के बाद आईएस ने बयान जारी कर कहा है कि अमेरिका के फ्लोरिडा के ओरलैंडो शहर के गे नाइट क्लब में हमला हुआ है, जिसमें 100 लोग मारे गए हैं और कई घायल हुए हैं। इस हमले को आईएस के लड़ाके ने अंजाम दिया है।

पिता ने आतंकी कहने से किया इनकार इससे पहले उमर मतीन के पिता ने उमर को आतंकी बताने से इनकार कर दिया था। कहा था कि वह जब देखता था कि दो मेल किस कर रहे हैं तो वह बहुत गुस्से में आ जाता था। इस हमले का धर्म से कुछ लेनादेना नहीं है। मियामी में हाल में ही एक गे कपल को गले लगते हुए देख कर उमर भड़क गया था। हो सकता है कि इसीलिए उसने नाइटक्लब में ऐसी हरकत की।