'अभी खत्म नहीं होगी सजा-ए-मौत '

नई दिल्ली (31 जुलाई):   गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू ने कहा है कि देश में वर्तमान स्थितियों को देखते हुए सरकार मृत्यु दंड को समाप्त करने के पक्ष में नहीं है। 

- सीपीआई के वरिष्ठ नेता डी राजा ने संसद के ऊपरी सदन राज्यसभा में फांसी का मुद्दा उठाया था जिसके जवाब में रिजिजू ने यह बात कही।

- रिजिजू ने अपने जवाब में कहा कि देश की वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए फिलहाल फांसी की सजा को खत्म नहीं किया जा सकता। राजा ने देश में फांसी की सजा को खत्म करने के लिए प्राइवेट मेंबर प्रस्ताव पेश किया था।

- रिजिजू ने कहा कि किसी को फांसी की सजा देने से पहले दोषी के सामाजिक और आर्थिक परिवेश के अलावा उसके स्वास्थ्य, उम्र सहित विभिन्न पहलुओं पर गौर किया जाता है। उ

- रिजिजू ने कहा कि अनुच्छेद 71, 134 और 161 में मृत्युदंड को लेकर प्रावधान किया गया है और सुप्रीम कोर्ट यह साफ कर चुका है कि दंड के इस प्रावधान का इस्तेमाल असाधारण परिस्थितियों में ही किया जाए।

- एक रिपोर्ट के अनुसार, 1998 से लेकर 2013 तक दो हजार से ज्यादा लोगों को मौत की सजा सुनाई गई। लेकिन 2000 के बाद महज 4 लोगों को ही फांसी पर चढ़ाया गया है।