ई अहमद की मौत के बावजूद संदन में बजट पेश, सांसद की मौत के बावजूद दो बार पहले भी पेश हो चुका है बजट

नई दिल्ली (1 फरवरी): वित्त मंत्री अरुण जेटली ने साल 2017-18 का आम बजट संसद में पेश कर दिया है। हालांकि सांसद ई अहमद की मौत के बाद संसद में आज बजट पेश होने पर आशंका बना हुआ था। भारतीय बजट के इतिहास में ऐसा तीसरी बार हुआ जब किसी भी सांसद की मौत के बावजूद सदन की कार्यवाही स्थगित नहीं कई गई। और सदन में बजट को पेश किया गया। इससे पहले 1954 और 1974 में सांसद की मौत के बाद भी सदन में बजट पेश किया गया था।

1954 और 1974 में रेल बजट के दौरान एक-एक सांसद का निधन हुआ था। उन सांसदों के निधन के बाद भी रेल बजट पेश किया गया था। हालांकि, उस वक्त फर्क यह था कि बजट शाम को पांच बजे पेश किया जाता था। ऐसे में बाकी सांसद सुबह श्रद्धांजलि देकर शाम को संसद पहुंच जाते थे। लेकिन अब बजट सुबह 11 बजे पेश किया जाता है।

यह पहली बार है जब बजट 1 फरवरी को पेश किया गया। इससे पहले बजट 28 या 29 फरवरी को पेश होता था। यही नहीं वित्त मंत्री अरुण जेटली का भी यह चौथा बजट है। साथ ही 92 साल में पहली बार रेल बजट अलग से पेश नहीं हो रहा है। इस बार रेल बजट आम बजट का ही हिस्सा है।