इंतजार हुआ खत्म, भारतीय सेना के जवानों को मिलेगा मॉडर्न हेल्मेट

नई दिल्ली(6 सितंबर):  पूरी दुनिया में आर्मी के सैनिकों को काफी कम वजन वाले हेल्मेट दिए गए हैं जो पॉलीएथिलीन से बना है और इनमें से कुछ में वीडियो कैमरे, थर्मल, केमिकल व बायोलॉजिकल सेंसर्स लगे हैं। लेकिन दूसरी ओर भारतीय सेना के जवानों को दशकों से इन बुनियादी सुविधाओं के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है।

इंतजार होगा खत्म

पर अब यह इंतजार खत्म होने वाला है।एक वेबसाइट के अनुसार, 1,58,279 हल्के वजन वाले हेल्मेट का कंट्रैक्ट बस पूरा होने को है। यह डील 170 करोड़ रुपये का है। रक्षा मंत्रालय के सूत्र के अनुसार, इस डील को काफी पहले पूरा होना था। लेकिन उस वक्त वित्तीय मुद्दा बाधा बन गया था जिसका अब समाधान हो गया है। दस साल से अधिक समय के इंतजार के बाद इस वर्ष मार्च में 140 करोड़ रुपये का कंट्रैक्ट टाटा एडवांस्ड मटीरियल्स लिमिटेड ने पूरा किया जिसमें 50,000 इमरजेंसी का इंतजाम किया गया।

आधुनिक तकनीकों से लैस होगा हेल्मेट

भारतीय मैन्युफैक्चरर एमकेयू द्वारा दिए गए हेल्मेट में 13mm का ट्रॉमा प्रोटेक्शन पैड लगा होगा और जो कमांडर्स के लिए होगा उसमें कम्युनिकेशन हेडसेट भी लगे होंगे। वर्तमान में आर्मी के पास जो हेल्मेट है वह काफी भारी है साथ ही यह अधिक सुरक्षा भी उपलब्ध नहीं कराता है। भारतीय आर्मी अभी भी अपने सख्त जरूरी मॉडर्न हेलीकॉप्टर्स, तोपों, राइफल्स, कार्बाइन व एयर डिफेंस हथियारों से वंचित हैं । लेकिन वर्षों से उपेक्षित इंफैंट्री सैनिकों को कुछ बुनियादी सुरक्षा साधन मिलने वाले हैं ।