मरी हुई जन्मी बच्ची श्मशान पहुंचते ही जिंदा हो गयी !

नई दिल्ली (7जून): मध्य प्रदेश के दमोह नवजात को मृत समझ कर माता-पिता अंतिम संस्कार के लिये श्मशान घाट ले गये वो दफ्नाने से पहले किलकारी मारने लगी। लोगों ने इसे ईश्वर का चमत्कार माना और उसे घर ले आये। घर में भी मातम का माहौल खुशी में बदल गया। लेकिन शामत सरकारी असप्ताल के उन डॉक्टरों की आ गयी जिन्होंने बच्ची को मृत घोषित कर परिवार वालों को सौंप दिया था। घर वालों ने नवजात बच्ची को दोबारा अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उसका इलाज जारी है। सिविल सर्जन डा. बी आर अग्रवाल ने मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं।

जानकारी के अनुसार मड़ियादो निवासी मीना आठ्या ने सोमवार दोपहर एक बच्ची को जन्म दिया था, कुछ ही देर बाद चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। परिजन जब उस नवजात शिशु का शव लेकर श्मशान घाट पहुंचे और अंतिम संस्कार की तैयारी में जुटे थे, तभी बालिका के शरीर में हरकत हुई और किलकारी गूंज उठी। नवजात शिशु को दोबारा अस्पताल लाया गया और उसका गहन चिकित्सा कक्ष फिर से भर्ती कराया गया। ड्यूटी पर तैनात चिकित्सक ने बताया कि जब मीना आठ्या ने बच्ची को जन्म दिया था, तब उसके शरीर में न तो कोई हरकत थी और उसकी सांस भी नहीं चल रही थी।