12 साल बाद हुआ खुलासा: तानाशाह किम ने 'अंग्रेजी' सीखने के लिए कराया था अमेरिकी लड़के को अगवा

नई दिल्ली (2 सितंबर): अमेरिका के डेविड स्नेडोन के बारे एक नया खुलासा हुआ है। पहले यह सामने आया था कि वो 2004 में चीन में मारे गए। लेकिन अब ये खबर आई है कि वो मरे नहीं थे, बल्कि नॉर्थ कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन को इंग्लिश पढ़ाने के लिए उन्हें किडनैप किया गया था। आज डेविड वाइफ और दो बच्चों के साथ नॉर्थ कोरिया की कैपिटल प्योंगयांग में ही रह रहे हैं। 

- एक न्यूज एजेंसी की रिपोर्ट में साउथ कोरिया की एक यूनियन के हेड के हवाले से ये खुलासा किया गया है। - रिपोर्ट के मुताबिक, साउथ कोरिया की एब्डक्टीज फैमिली यूनियन के हेड चोई सुंग योंग ने कहा है कि डेविड को किडनैप किया गया था। वो किम जोंग उन का पर्सनल ट्यूटर रहा है। - "डेविड जिंदा है और प्योंगयांग में अपनी वाइफ और दो बच्चों के साथ रहता है। वहां वह बच्चों को इंग्लिश पढ़ाता है।" - 2004 में डेविड हुनान (चीन) के हॉट टूरिज्म डेस्टिनेशन टाइगर लीपिंग गॉर्ज में घूम रहे थे। - इस एरिया में अंडरग्राउंड रेलवे भी है। इस रेल रोड से ही नॉर्थ कोरिया से भागने वाले साउथ ईस्ट एशिया में पहुंच जाते हैं। - डेविड को आखिरी बार 14 अगस्त 2004 को शांग्री-ला के किसी कोरियन रेस्टोरेंट से निकलते देखा गया था।  - उन्हें सियोल में एयरपोर्ट पर अपने भाई से मिलना था। लेकिन जब मुलाकात नहीं हुई तो 26 अगस्त को उनकी मिसिंग रिपोर्ट दर्ज कराई गई। - डेविड की मां केथलीन और पिता रॉय का कहना है कि उन्हें बेटे की मौत का यकीन नहीं था। - उनकी डेड बॉडी मिली ही नहीं थी। इसलिए पेरेंट्स ने जिंदगी की जंग जारी रखी।  - पेरेंट्स का कहना है कि उनके बेटे को कोरिया लैंग्वेज में माहिर होने की वजह से टारगेट बनाया होगा।  - वो जब साउथ कोरिया में काम करता था तो जबरदस्त कोरियन भाषा बोलता था।  - पेरेंट्स को लगा था कि चीन ने उनके बेटे को गिरफ्तार कर लिया है। - रॉय अपने दूसरे बेटों के साथ हुनान गए और डेविड के पोस्टर्स चिपकाए।