ओमान में फंसी 45 महिलाओं ने सुषमा स्वराज से लगाई मदद की गुहार


नई दिल्ली (29 जुलाई): भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज अपने काम को लेकर काफी गंभीर रहती हैं। सुषमा स्वराज को फेसबुक और ट्विटर जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर भी लोगों की मदद करने के लिए जाना जाता है। अगर कोई कहीं से भी सुषमा स्वराज से दिन हो या रात सोशल मीडिया पर भी मदद मांगता है तो वह उसकी तुरंत मदद करने की कोशिश करती हैं। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से दिल्ली महिला आयोग ने मदद मांगी है। यह मदद ओमान में फंसी उन करीब 45 महिलाओं के लिए है, जो अच्छे रोजगार की तलाश में एजेंट के जरिए दुबई गई थीं। 

एजेंट इन महिलाओं को नर्सिंग के काम के लिए दुबई लेकर गया था, लेकिन कुछ दिन दुबई रखने के बाद वह इनको ओमान ले गया और वहां किसी एजेंट के पास छोड़ दिया, जिसने इन महिलाओं को लोगों के घरों में काम करने के लिए लगवा दिया, जहां इनके साथ काफी बुरा व्यवहार हो रहा है। दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने केंद्रीय मंत्री सुषमा स्वराज को पत्र लिखकर मदद की अपील की है।

दिल्ली महिला आयोग की सहयोगी एनजीओ नवसृष्टि के पास इन महिलाओं ने ओमान से अपनी शिकायतें भेजकर मदद की गुहार लगाई थी। ओमान मे पुडुचेरी, हरियाणा, पंजाब सहित अन्य कई राज्यों की महिलाएं फंसी हुई है। वहां के लोगों ने इनके पासपोर्ट भी छीन लिए हैं। इन महिलाओं का कहना है कि वे इंडियन एंबेसी के चक्कर लगा रही हैं, लेकिन वहां से भी इनको मदद नहीं मिल रही है।

इन महिलाओं ने गुहार लगाई है कि कैसे भी करके उन्हें बस अपने देश वापस बुला लिया जाए, ताकि वे अपने परिवार और बच्चों से मिल सकें। दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति जयहिंद ने कहा कि उनके पास उनकी सहयोगी एनजीओ से ओमान में फंसी महिलाओं की शिकायतें आई हैं, जिन पर कार्रवाई करने के लिए उन्होंने सुषमा स्वराज के ऑफिस विदेश मंत्रालय भिजवा दिया है।