'भेष बदलकर मुंबई आया था दाउद इब्राहीम'

नई दिल्ली (22 फरवरी): 'हिंदुस्तान की खुफिया एजेंसियों और पुलिस की आंखों में धूल झोंक कर दाऊद भारत आया, वो रत्नागिरी जिले के मुम्बके गांव में अपने घर पर आया और आस-पड़ौस के लोगों से मिला और वापस चला भी गया।' ये हम नहीं कह रहे हैं। मुंबई मिरर ने दाउद के पुश्तैनी घर की पड़ौसन सना मुकद्दम के हवाले से लिखा है कि दाउद अक्सर यहां भेष बदल कर आता रहता है।

सना यह भी दावा करती हैं कि दाउद एक हफ्ते पहले ही रत्नागिरी आया था। इसके अलावा हूर खदास नाम की एक और महिला ने दावा  किया कि दाउद के घर पर अब जिन्नातों (भूत-प्रेतों) ने कब्ज़ा कर लिया है। जो भी इस घर की तरफ आता है वो उसे अपने पास खींच लेते हैं। खास तौर पर ज़िन्नात औरतों को अपने पास खींचते हैं। दाउद की संपत्तियों के बारें में इन तमाम अफवाहों और अंधविश्वासों के अलावा यह भी कहा जाता है कि दाउद की कुल 15 संपत्तियां इस इलाके में हैं। जिनकी देखभाल उसके दूर के रिश्तेदार करते हैं।

वो ही समय-समय पर म्युनिसपेलिटी के टेक्सेज़ भी भरते हैं। इस बारे में रत्नागिरी के एसपी संजय शिंदे कहते हैं कि दाउद की सभी संपत्तियां उसकी मां अमीना इब्राहीम के नाम से हैं। जिन्हें इनकम टेक्स डिपार्टमेंट ने सील कर दिया है। उन्होंने यह भी बताया कि दाउद की संपत्तियों के पास पुलिस का कड़ा पहरा रहता है। पुलिस पार्टी लगातार गश्त करती रहती है। उसकी संपत्तियों के चारों ओर इंफ्रारेड सेंसर लगाये गये हैं। पुलिस पार्टी के जवानों की बैटन में एक चिप लगा है। जैसे ही यह बैटन सेंसर के पास आते हैं वैसे ही पता चल जाता है कि कौन सी पुलिस पार्टी वहां पहुंची है।