खुली पाक की पोल- 26/11 से पहले लश्कर हेडक्वार्टर में हेडली को दिखाई थी ये फिल्म

मुंबई (9 फरवरी): हेडली की इस गवाही से पाकिस्तान पूरी तरह से घिर गया है। दुनिया के सामने उसकी पोल खुल गई है। अभी तक सिर्फ लश्कर की साज़िश का नाम सामने आ रहा था। लेकिन अब ये खुलासा हुआ है कि इस हमले में ISI भी शामिल था। जिनकी मदद के बाद ही इतने बड़े हमले को अंजाम दिया गया था। हेडली ने ये भी खुलासा किया आईएसआई ही लश्कर को फंडिंग करता था।

सब हेड-शिकागो कोर्ट में हेडली का बयान -पाकिस्तान और अमेरिका में बैठे आतंकियों की पूरी बातचीत पर आईएसआई की निगरानी रहती थी। -असली प्लान धमाके और हमले का था। फिदायीन हमले का नहीं। -आतंकियों को किसी घर में सुरक्षित पनाह मिलने और बाद में बस या ट्रेन से फरार होने का इरादा था। -लश्कर हेडक्वार्टर में पाक फौज के ग्रुप कमांडर ने ताज पर हमले की एकैडमिक फिल्म दिखाई। लश्कर ने कहा कि हिंदुस्तानी हमारे दुश्मन हैं। -लश्कर को आतंकी सूची में डालने पर अमेरिका के खिलाफ केस करने की बात उठी तो लश्कर आतंकी जकी ने कहा- मैं आईएसआई से बात करूंगा। हमारे जैसे सभी संगठन आईएसआई के तहत ही काम करते हैं।  -लश्कर मुंबई में हथियारों से भरी एक और बोट भेजना चाहता था, जिसे पाक फौज ने मना कर दिया था।

सब हेड-शिकागो कोर्ट में हेडली का बयान -आईएसआई के मेजर इकबाल ने हेडली कोमुंबई में लिखा मेल -मेल में लिखा अपना फोन नंबर-001-646-810-8646 -मेजर इकबाल काफोन नंबर न्यूयॉर्क का था। -मेजर इकबाल का ई-मेल [email protected]

हेडली के इन सारे खुलासे से साफ है कि पाकिस्‍तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई ही आतंकवादियों की सरपरस्त है। भारत को बर्बाद करने के लिए आईएसआई आतंकियों को मदद कर रही है। मदद यानी आईएसआई खुद बन गया है आतंकी संगठन।

हेडली की गवाही से अंतर्राष्ट्रीय दबाव भी बढ़ेगा और पाकिस्तान हेडली की गवाही को किसी भी हालत में नकार नहीं पाएगा। साथ में हाफिज़ के खिलाफ भारत के उन सबूत को भी ताकत मिलेगी जिसे वो पहले ही पाकिस्तान को सौंप चुका है।