बेटी ने जज से कहा गन्दा काम करती है मेरी मां

नई दिल्ली(17 सितंबर): बिहार में बेटी की गवाही पर भागलपुर के डिस्ट्रिक्ट कोर्ट ने उसकी मां और प्रेमी को दोषी करार दिया। कोर्ट ने इसे रेयरेस्ट मामला माना। हत्या के इस मामले में बहस के दौरान 16 साल की बेटी ने अपनी मां के लिए खुद फांसी की सजा मांगी। उसने कहा कि मेरे पिता रामानंद की हत्या मां और उसके प्रेमी मणिकांत यादव ने मिलकर की है।

- कोर्ट में बेटी ने कहा, ''जज साहिबा, मेरी मम्मी गंदी है, उसे फांसी दीजिए।''

- जज सुषमा त्रिपाठी ने उसके बयान को अहम मानते हुए आरोपी मां बेबी कुमारी और उसके प्रेमी मणिकांत यादव को मर्डर का दोषी करार दिया। दोनों को अब 21 सितंबर को सजा सुनाई जाएगी।

- शुक्रवार को कोर्ट ने दोनों पक्षों की सुनवाई के बाद पाया कि यह काफी संगीन मामला है। इसे रेयरेस्ट माना जा सकता है।

- कोर्ट ने मृतक की बेटी और बेटे के बयान और पुलिस द्वारा जुटाए सबूत को आधार मानते हुए दोनों आरोपियों को दोषी मान लिया।

- 23 फरवरी 2012 को भागलपुर जीरो माइल थाना क्षेत्र के झुरखुरिया स्थित एक कुएं से नीलू के पिता रामानंद राम की लाश मिली थी।

- कहलगांव स्थित बरैनी निवासी रामानंद के पिता कुमोद राम ने पुलिस को बताया कि 15 फरवरी 2012 को मणिकांत यादव ने उन्हें फोन कर बताया था कि जीरोमाइल डेरा दिखाने के लिए रामानंद को ले जा रहे हैं। 

- तब से रामानंद गायब था। कुमोद राम ने बताया था कि उसके बेटे के साथ काम करने वाले मणिकांत के रामानंद की पत्नी बेबी से अवैध संबंध थे। 

- पुलिस ने जब तहकीकात की तो पूरा मामला सामने आया। बेबी ने भी पुलिस पूछताछ में स्वीकार किया कि उसने मणिकांत के साथ मिलकर पति रामानंद की गला रेत कर हत्या की थी और लाश को कुएं में डाल दिया था। 

- उसने बताया कि उसके पति रामानंद को जीरोमाइल में डेरा दिखाने का प्लान उसने और मणिकांत ने बनाया था ताकि उसकी हत्या की जा सके।

- मणिकांत उसे लेकर बगीचे के पास पहुंचा। वहीं दोनों ने मिलकर रामानंद की हत्या कर लाश को कुएं में फेंक दिया था।