दार्जिलिंग हिंसा पर बोलीं ममता, कहा- इसके पीछे गहरी साजिश है

नई दिल्ली ( 17 जून ): दार्जिलिंग में शनिवार को अलग राज्य गोरखालैंड का आंदोलन एक बार फिर से भड़क गया। गुरुवार के तर्ज पर लगातार पुलिस के साथ संघर्ष जारी है। वहां आंदोलनकारियों और पुलिस बल के साथ लगातार संघर्ष चल रहा है। लाठी चार्ज और आंसू गैस के गोले दागे जा रहे है।


पथराव और लाठी चार्ज में दर्जनों के घायल हो के समाचार मिल रहे है? जिस प्रकार की स्थिति बनती जा रही है उससे ऐसा लगता है कि यहां कभी भी प्रशासन के द्वारा गोली चलायी जा सकती है। हिल्स में तैनात कोई भी वरिष्ठ अधिकारी किसी भी बयानबाजी से बच रहे हैं।



पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शनिवार को गोरखा जनमुक्ति मोर्चा(जीजेएम) द्वारा की जा रही तोड़-फोड़ की निंदा की और राज्य के उत्तरी पहाड़ी इलाके में हो रही हिंसा को गहरी साजिश करार दिया।


इस पहाड़ी इलाके में जीजेएम ने अनिश्चितकालीन बंद का आह्वान किया है। मुख्यमंत्री ने कहा, यह एक गहरी साजिश है। इतने सारे हथियार और लड़ाई के सामान अकेले एक दिन में नहीं आ सकते। यहां एक अंतर्राष्ट्रीय और राज्य की सीमा है। वे संविधान का उल्लंघन कर रहे हैं। वे केवल बम फेंक रहे हैं। वे गैरकानूनी तरीके से हथियारों और बमों को एकत्र कर रहे हैं। बनर्जी ने आरोप लगाया कि जीजेएम का पूर्वोत्तर राज्यों के आतंकी समूहों से संबंध है।


उन्होंने कहा, मुझे बताया गया है कि पूर्वोत्तर भारत के भूमिगत उग्रवादियों के साथ उनका संबंध है। मैंने अनुरोध किया है कि उन्हें दार्जिलिंग में किसी तरह की कोई मदद नहीं करनी चाहिए।