अमिताभ बच्चन को 'बदबू गुजरात की' महसूस करने का न्योता

नई दिल्ली(11 सितंबर): गुजरात में ऊना दलित अत्याचार लड़त समिति (UDALS) के नेतृत्व में चल रहे आंदोलन के निशाने पर अब बिग बी भी आ गए हैं। समिति ने फैसला लिया है कि बॉलीवुड स्टार अमिताभ बच्चन को 'बदबू गुजरात की' संदेश वाले पोस्टकार्ड्स भेजे जाएंगे। उन्हें गुजरात की बदबू को महसूस करने के लिए आमंत्रित किया जाएगा।

अमिताभ बच्चन गुजरात टूरिज़म का प्रमोशन करते हैं। इस प्रमोशन की चर्चित लाइनें 'खुशबू गुजरात की' और 'कुछ दिन तो गुजारिए गुजरात में' हैं। UDALS के संयोजक जिग्नेश मेवानी ने बताया कि 13 सितंबर को एक पब्लिक मीटिंग आयोजित की जा रही है।

इस मीटिंग में हजारों दलित परिवार अमिताभ बच्चन को पोस्टकार्ड्स लिखेंगे। जिग्नेश ने कहा, 'पीएम नरेंद्र मोदी के अनुरोध पर उन्होंने (अमिताभ) 'खुशबू गुजरात की' का विज्ञापन किया। हम दलितों ने मरे हुए जानवरों को हटाना बंद कर दिया है। अब उन्हें गुजरात में कुछ दिन बिताकर 'बदबू गुजरात की' को भी महसूस करना चाहिए।'

ऊना में दलित युवकों की पिटाई के बाद दलितों ने मरे हुए जानवरों को हटाने से इनकार कर दिया है। इसकी वजह से कई जगहों पर लोगों को भयंकर बदबू का सामना करना पड़ रहा है। स्थानीय प्रशासन फौरी तौर पर दूसरे इंतजाम कर किसी तरह सफाई कराने की कोशिश कर रहा है।

संगठन का कहना है कि वह दलितों के इतर भूमिहीन आदिवासी और अन्य पिछड़ी जातियों के लिए भी आंदोलन चलाएंगे। मेवानी ने कहा कि जल्द ही रेल रोको आंदोलन की तारीख की घोषणा की जाएगी।