तिब्बत के बौद्ध धर्मगुरु दलाई लामा ने खुद को बताया 'भारत का बेटा'

राजगीर (17 मार्च): तिब्बती बौद्ध धर्मगुरु दलाई लामा ने खुद को सन ऑफ इंडिया यानी भारत का बेटा बताया है। बिहार के नालंदा जिले में बौद्ध धर्म पर आयोजित एक अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार के उद्घाटन के मौके पर उन्होंने कहा कि मैं 58 साल से भारत में रह रहा हूं, लिहाजा मैं भारत का ही बेटा हूं।


दलाई लामा ने कहा कि धर्मनिरपेक्षता के मामले में कोई भी देश भारत जैसा नहीं है। उन्होंने देश की धर्मनिरपेक्षता के माहौल की जमकर तारीफ की। उन्होंने कहा किधर्मनिरपेक्षता के क्षेत्र में भारत जैसा कोई देश नहीं है। जब मैं तिब्बत में था तो मेरे विचार संकीर्ण थे लेकिन जब मैं अपनी जन्मभूमि से बाहर निकला और भारत आया, तो तिब्बत के साथ-साथ पूरी दुनिया के बारे में मेरे विचारों में व्यापकता आयी।


साथ ही उन्होंने कहा कि विश्वभर में बौद्ध धर्म से काफी उम्मीदें हैं। भारत से बौद्ध धर्म पूरी दुनिया में फैला और उसने शांति स्थापित करने में योगदान दिया।’ राजधानी पटना से करीब 100 किलोमीटर दूर यहां इंटरनेशनल कन्वेंशन सेन्टर में ‘21वीं सदी में बौद्ध धर्म’ पर सेमिनार में विभिन्न देशों के बौद्ध भिक्षु और विद्वान भाग ले रहे हैं।