भारत ने चीन को दिया झटका, कहा-अरुणाचल प्रदेश जा सकते हैं दलाई लामा

नई दिल्ली ( 28 अक्टूबर ) : भारत ने कहा है, दलाई लामा भारत में कहीं भी जाने के लिए स्वतंत्र हैं।  केंद्र ने अगले साल मार्च में दलाई लामा की अरुणाचल प्रदेश की यात्रा को मंजूरी दे दी है। माना जा रहा है कि चीन इसका विरोध कर सकता है।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने गुरुवार को कहा कि दलाई लामा पहले भी अरुणाचल प्रदेश गए हैं और उनका वहां जाना कोई असामान्य बात नहीं है। हाल में अमेरिकी राजदूत रिचर्ड वर्मा के अरुणाचल जाने पर चीन ने ऐतराज जताया था। भारत ने तब भी यही कहा था कि अरुणाचल भारत का अटूट हिस्सा है और वहां वर्मा के जाने में कोई असामान्य बात नहीं है।

जब दलाई लामा की यात्रा के बारे में पूछा गया तो विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने कहा, दलाई लामा सम्मानित आध्यात्मिक हस्ती एवं भारत के माननीय अतिथि हैं। वह देश के किसी भी हिस्से में यात्रा करने के लिए स्वतंत्र हैं। स्वरूप ने कहा, 'यह एक तथ्य है कि अरुणाचल प्रदेश में बौद्ध धर्मावलंबियों में अच्छी-खासी संख्या में उनके अनुयायी हैं जो उनका आशीर्वाद चाहते हैं। वह पहले भी राज्य की यात्रा कर चुके हैं और यदि वह दोबारा वहां जाते हैं तो हमें कुछ असामान्य नजर नहीं आता। प्रदेश सरकार के सूत्रों ने बताया कि राज्य दलाई लामा की यात्रा को आशाभरी निगाहों से देख रहा है। 

दलाई लामा राज्य के मुख्यमंत्री पेमा खांडू के निमंत्रण पर प्रदेश की यात्रा करेंगे। समझा जाता है कि केंद्र ने इसकी मंजूरी दे दी है। आध्यात्मिक नेता दलाई लामा के बौद्धमठ तवांग जाने की भी संभावना है। पिछले हफ्ते चीन ने अमेरिकी राजदूत रिचर्ड वर्मा की 22 अक्तूबर की तवांग यात्रा पर यह कहते हुए कड़ी प्रतिक्रिया दी थी कि राजदूत ने विवादित क्षेत्र का दौरा किया।

चीन अरुणाचल प्रदेश को दक्षिण तिब्बत का हिस्सा बताता है और वह अक्सर भारतीय नेताओं, विदेशी अधिकारियों एवं दलाई लामा की इस क्षेत्र की यात्राओं का विरोध करता है। अमेरिकी राजदूत की यात्रा के बाद चीन ने अमेरिका को चेतावनी तक दे डाली थी कि चीन-भारत सीमा विवाद में उसके हस्तक्षेप से यह और जटिल बन जाएगा और सीमा पर बड़ी मशक्कत से कायम हुई शांति भंग हो सकती है.