महाराष्ट्र: दही हांडी आयोजन के दौरान 197 गोविंदा घायल, 2 की मौत

मुंबई(16 अगस्त): कृष्ण जन्माष्टमी के शुभ अवसर पर महाराष्ट्र समेत पूरे देश में 'दही-हांडी' का उत्सव मनाया गया। इस समारोह के दौरान मानव पिरामिड बनाते हुए महाराष्ट्र में कम से कम 197 लोग घायल हो गए। जबकि पालघर के धानसर और ऐरोली में मानव पिरामिड बनाते हुए दो की मौत हो गई। 

- बता दें कि दही हांडी का त्योहार मनाने के पीछे की कहानी काफी पौराणिक है। यह कहानी श्री कृष्ण की माखन चुराने की कथा से जुड़ी हुई है। यह पर्व हर साल अगस्त के महीने में मनाया जाता है।

- दही हांडी उत्सव में खासकर युवा पूरे जोश के साथ भाग लेते हैं। मुंबई के अलग-अलग शहरों जैसे दादर और थाणे में इस उत्सव की एक अलग ही छटा देखने को मिलती है।

- दही हांडी त्योहार मनाने का एक अलग ही जोश होता है। इस त्योहार में युवाओं का एक मानव पिरामिड बनाता है, जिसमें एक युवक ऊपर ऊंचाई पर चढ़कर लटकी हांडी को फोड़ता है, जिसमें दही होता है। हांडी फोड़ने वाले बच्चे को गोविंदा कहा जाता है।