कल इन राज्यों में भारी बारिश के साथ दस्तक देगा मानसून

नई दिल्ली ( 29 मई ): बंगाल की खाड़ी में बना चक्रवाती तूफान तेजी से बांग्लादेश की तरफ बढ़ रहा है। मौसम विभाग के ताजा पूर्वानुमानों के मुताबिक 30 मई को दोपहर के बाद चटगांव के पास समुद्र तट को पार करेगा। जिस समय ये चक्रवात समुद्र तट से टकराएगा उस समय ये सिवियर साइक्लोनिक स्टॉर्म की कैटेगरी वाला तूफान होगा।

चक्रवाती तूफान मोरा की वजह से पूर्वोत्तर भारत के सभी राज्यों में 30 तरीख से भारी बारिश की आशंका के मद्देनजर रेड अलर्ट जारी कर दिया गया है। चक्रवात मोरा के चलते पूर्वोत्तर भारत में मानसून 30 मई को ही दस्तक दे देगा। उधर केरल में भी बारिश का सिलसिला जोर पकड़ चुका है और ऐसा अनुमान है कि यहां पर भी 30 मई को ही मानसून दस्तक दे देगा।

साइक्लोन सेंटर के इंचार्ज और मौसम विभाग के एडीजी एम महापात्रा के मुताबिक साइक्लोन मोरा उत्तर-उत्तर-पूर्व दिशा की तरफ जा रहा है और इसकी मौजूदा स्थिति का विश्लेषण करने से पता चल रहा है कि ये अभी और ज्यादा ताकतवर हो जाएगा। ये चक्रवात बांग्लादेश के चटगांव के पास कोस्ट को 30 मई की दोपहर को पार करेगा जिस समय ये चक्रवात समुद्र तट को हिट करेगा उस समय इसमें चल रही हवाओं की रफ्तार 110 से 120 किलोमीटर प्रति घंटे की होगी। चक्रवाती तूफान मोरा के चलते बांग्लादेश के समंदर में 1 से 1.5 मीटर की ऊंची लहरें उठने का अनुमान है। चटगांव को हिट करने के बाद इस चक्रवाती तूफान की ताकत कम हो जाएगी और ये एक डीप डिप्रेशन में तब्दील हो जाएगा।

चक्रवाती तूफान मोरा की वजह से बांग्लादेश के साथ-साथ भारत के पूर्वोत्तर इलाके में भारी बारिश होने की आशंका है। मौसम विभाग ने 30 मई को त्रिपुरा, मेघालय, नागालैंड, दक्षिणी असम, मणिपुर, मिजोरम और अरुणाचल प्रदेश में कई जगहों पर भारी बारिश होने की आशंका जताई है। इसके मद्देनजर इन राज्यों में भारी बारिश का रेड अलर्ट जारी कर दिया है। 31 मई को भी इन सभी राज्यों में बारिश का सिलसिला जारी रहेगा और यहां पर कई जगहों पर भारी बारिश की आशंका बनी रहेगी।

 मौसम विभाग के डायरेक्टर चरण सिंह के मुताबिक पूर्वोत्तर भारत में जहां एक तरफ भारी बारिश का अंदेशा है तो वहीं दूसरी तरफ इन सभी राज्यों में 50 से 60 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं भी चलेंगी। लिहाजा लोगों को अपने घरों में रहने की सलाह दी गई है।