गुजरात: तूफान ओखी को लेकर हाईअलर्ट, रैलियां रद्द, चुनाव आयोग भी चिंतित

नई दिल्ली ( 5 दिसंबर ): देश के दक्षिण और पश्चिमी राज्यों के तटीय इलाकों में ओखी तूफान का कहर जारी है। केरल और तमिलनाडु के बाद अब ये तूफान महाराष्ट्र और गुजरात तक पहुंच चुका है। 

ओखी अब दक्षिण गुजरात के सूरत की तरफ बढ़ रहा है। इसकी रफ्तार 100 किमी प्रति घंटा रहने के आसार हैं। यह मंगलवार देर रात तक गुजरात पहुंच सकता है। इस तूफान से चुनाव आयोग भी चिंतित है और इसे देखते हुए आयोग ने भी कमर कस ली है। आयोग ने पहले दौर के मतदान की तैयारियों का जायजा लिया है। तूफान के कारण राजनीतिक दलों की कई चुनावी रैलियां भी रद्द हो गई हैं। 

आयोग ने प्रशासन से पहले चरण की तैयारियों की रिपोर्ट भी मांगी और प्रशासन से मतदान तैयारियों पर खास ध्यान देने को कहा है ताकि तूफान का असर मतदान पर नहीं पड़े। आयोग ने गुजरात के मुख्य निर्वाचन अधिकारी को ओखी को देखते हुए वैकल्पिक योजना भी तैयार रखने को कहा है ताकि तूफान से प्रभावित लोग भी वोट डाल सकें। राज्य में 9 और 14 दिसंबर को दो चरणों में मतदान होना है। मतगणना 18 दिसंबर को होगी। तूफान के कारण बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की गुजरात में कई रैलियां रद्द हो गईं। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी की मोरबी और सुरेंद्रनगर में होने वाली रैली भी रद्द हो गई। 

उधर, गुजरात के सीएम विजय रुपाणी ने भी सूरत में ओखी तूफान को देखते हुए एक बैठक की है और तैयारियों का जायजा लिया। बैठक के बाद रुपाणी ने कहा, 'हमने सभी संचार लाइनें खोल रखी हैं। हम कोशिश कर रहे हैं कि तूफान के कारण कहीं जलभराव नहीं हो। साथ ही पानी की आपूर्ति जारी रहे।' 

गौरतलब है कि चक्रवाती तूफान ओखी मंगलवार को गुजरात में सूरत के पास दक्षिणी तट के करीब पहुंच गया और करीब आधी रात के समय राज्य में इसके दस्तक देने की आशंका है। स्थानीय मौसम केंद्र की ओर से जारी ताजा पूर्वानुमान के मुताबिक चक्रवात अब सूरत से महज 390 किलोमीटर दूर है। 

मौसम विभाग के मुताबिक, इसके उत्तर-उत्तरपश्चिम की तरफ बढ़ने, धीरे-धीरे कमजोर पड़ने और फिर पांच दिसंबर की रात गहरे दबाव के रूप में दक्षिण गुजरात एवं सूरत के पास महाराष्ट्र के तटों तक पहुंचने की आशंका है। मौसम विभाग ने ज्यादातर जगहों पर मध्यम बारिश का पूर्वानुमान किया है जबकि सौराष्ट्र एवं दक्षिण गुजरात में कुछ जगहों पर भारी बारिश होगी।