LIVE : देर रात सूरत पहुंचेगा ओखी तूफान, 1 हजार लोगों को किया गया स्थांतरित

नई दिल्ली ( 5 दिसंबर ): गुजरात और महाराष्ट्र में भीषण चक्रवाती तूफान ओखी कहर बरपा रहा है। जहां एक ओर चक्रवात ओखी तेजी से गुजरात के तटीय इलाकों की तरफ बढ़ रहा है, तो दूसरी ओर मुंबई समेत महाराष्ट्र के तटीय कोंकण के अधिकांश इलाकों में मंगलवार को भारी बारिश हुई।

इसके चलते अहमदाबाद के 16 गांव सहित सूरत नवसारी वलसाड की स्कूलों में कल छुट्टी घोषित की गई है। सूरत के करीब एक हजार लोगों को स्थानांतरित किया गया है। 

तूफान के चलते गुजरात विधानसभा चुनाव प्रचार पर भी असर पड़ रहा है। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की रैलियां रद्द कर दी गई हैं। बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष को भावनगर में अपनी रैलियों को रद्द करना पड़ना। इसी तरह राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सूरत में अपने प्रचार कार्यक्रमों को रद्द करना पड़ा।

गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए मतदान की तारीख बेहद नजदीक आ गई है, लेकिन उससे पहले ओखी के चलते चुनावी घमासान थम सा गया है।

- केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने ओखी चक्रवात के खतरे को लेकर गुजरात और महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्रियों से बातचीत की। साथ ही सभी तरह की जरूरी मदद का आश्वासन दिया। इसके अलावा मंगलवार शाम 6 बजे तक सेना ने राहत एवं बचाव अभियान चलाकर करीब 608 लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया है। 

 
- पीएम मोदी ने गुजरात के सभी बीजेपी कार्यकर्ताओं को समंदर तट रह रहे लोगों को मदद करने की अपील की है.

- साइक्लोन सेंटर ने उत्तरी महाराष्ट्र और दक्षिण गुजरात के तटीय इलाकों में समंदर में ऊंची-ऊंची लहरें उठने की आशंका जाहिर की है। ये स्थिति 6 दिसंबर तारीख तक बनी रहेगी। तूफान ओखी के चलते खराब मौसम की वजह से दक्षिण गुजरात में वलसाड़, सूरत, नवसारी, भरुच, डांग, तापी, अमरेली, गीर, भावनगर जिलों में पेड़ों और कच्चे मकानों को नुकसान पहुचने की आशंका है। दमन, दादर नगर हवेली और उत्तरी महाराष्ट्र में पालघर, थाणे, रायगढ़ और ग्रेटर मुंबई में भी तेज हवाओं और बारिश के चलते पेड़ों और कच्चे घरों को नुकसान पहुचने की आशंका है। 

- मौसम विभाग का कहना है कि इस डीप डिप्रेशन की वजह से सूरत और आस-पास के इलाकों में 50 किलोमीटर प्रति घंटे से लेकर 70 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चलेंगी. सूरत पहुंचने के बाद डीप डिप्रेशन कमजोर होने लगेगा और छह दिसंबर की शाम तक ये महज डिप्रेशन रह जाएगा.

- मौसम विभाग के ताजा आंकड़ों के मुताबिक चक्रवात ओखी की सूरत से दूरी महज 290 किलोमीटर रह गई है। अगले कुछ घंटों के भीतर ये तूफान और कमजोर होकर डिप्रेशन रह जाएगा। मौसम विभाग के एडीजी डॉ एम महापात्रा के मुताबिक दक्षिण गुजरात और उत्तरी महाराष्ट्र के तमाम इलाकों को सतर्क कर दिया गया है। 

- मौसम विभाग के मुताबिक चक्रवात ओखी तेजी से गुजरात के तटीय इलाकों की तरफ बढ़ रहा है। इसके साथ ही यह कमजोर होने लगा है. अब ये तूफान भीषण चक्रवाती तूफान की कैटेगरी से निकलकर महज चक्रवाती तूफान रह गया है. इस समय इसके अंदर 65 से लेकर 75 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं उमड़-घुमड़ रही हैं।