Blog single photo

तमिलनाडु में कभी भी दस्तक दे सकता है चक्रवात गाजा, हजारों लोगों ने खाली किया घर

तमिलनाडु सरकार ने गाजा चक्रवात को गंभीरता से लेते हुए प्रशासन को सुरक्षा को पुख्ता रखने के लिए कड़े निर्देश दिए हैं। मौसम विभाग की मानें तो तमिलनाडु के तटीय इलाकों पर गाजा चक्रवात कभी भी दस्तक दे सकता है। मौसम विभाग की चेतावनी के बाद दक्षिण तमिलनाडु तट पर हजारों बचावकर्मी मुस्तैद खड़े हैं। वहीं, 26,000 से अधिक लोगों को उनके घरों से निकालकर सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया है। मौसम विभाग के अधिकारियों के मुताबिक गाजा चक्रवात तमिलनाडु में आज रात कभी भी दस्तक दे सकता है। सुरक्षा के लिहाज से प्रशासन ने लोगों को 164 शिविरों में शिफ्ट किया है।

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (14 नवंबर): तमिलनाडु सरकार ने गाजा चक्रवात को गंभीरता से लेते हुए प्रशासन को सुरक्षा को पुख्ता रखने के लिए कड़े निर्देश दिए हैं। मौसम विभाग की मानें तो तमिलनाडु के तटीय इलाकों पर गाजा चक्रवात कभी भी दस्तक दे सकता है। मौसम विभाग की चेतावनी के बाद दक्षिण तमिलनाडु तट पर हजारों बचावकर्मी मुस्तैद खड़े हैं। वहीं, 26,000 से अधिक लोगों को उनके घरों से निकालकर सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया है। मौसम विभाग के अधिकारियों के मुताबिक गाजा चक्रवात तमिलनाडु में आज रात कभी भी दस्तक दे सकता है। सुरक्षा के लिहाज से प्रशासन ने लोगों को 164 शिविरों में शिफ्ट किया है।

तूफान गाजा के आज शाम या रात तक दक्षिण तमिलनाडु तट पार करने का अनुमान है। जिन इलाकों से इसके गुजरने का अनुमान है, वहां पर सरकारी तंत्र को चौकस रखा गया है।मौसम विभाग ने कहा है कि यहां से 285 किलोमीटर दूर दक्षिण पश्चिम खाड़ी और पड़ोसी पुडुचेरी में कराईकल के 225 किलोमीटर पूर्व से गुजर रहे तूफान के गुरुवार की शाम या रात कुड्डालोर और पामबन के बीच तट पार करने का अनुमान है।

तूफान के पहुंचने के दौरान इसकी रफ्तार 80-90 किलोमीटर प्रति घंटे तक रहने का अनुमान है। इसके बाद इसकी रफ्तार 100 किलोमीटर प्रति घंटे तक पहुंच सकती है और क्षेत्र में भारी बारिश का अनुमान है। तमिलनाडु राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने एक ट्वीट में कहा है कि गाजा चक्रवात के बारे में नवीनतम सूचना के मुताबिक चक्रवात के यहां से 300 किलोमीटर दूर नागपट्टनम जिले में आठ बजे से 11 बजे रात के बीच पहुंचने का अनुमान है।

चक्रवात से जिन जिलों के प्रभावित होने की संभावना है वहां पर फिलहाल जोरदार वर्षा नहीं हुई है। हालांकि, चेन्नई में छिटपुट बारिश हुई।नागपट्टनम जिले में अब तक 1313 लोगों को राहत केंद्रों में भेजा गया और निचले इलाके में रहने वालों को सुरक्षित स्थानों पर भेजा जा रहा है।

Tags :

NEXT STORY
Top