नोटबंदी के बाद देशभर में तीन गुना बढ़ा साइबर अपराध

नई दिल्ली (12 नवंबर) पिछले साल हुई नोटबंदी के बाद डिजिटल लेन-देन को काफी बढ़ा है, लेकिन इसके साथ-साथ साइबर अपराध में भी तीन गुना की बढ़ोतरी हुई है। भारतीय वाणिज्य एवं उद्योग मंडल (एसोचेम) के अलावा नोएडा के साइबर अपराध अन्वेषण केंद्र के आंकड़े से इसकी पुष्टि होती है।

इस मामले पर साइबर अपराध विशेषज्ञों का कहना है कि देश में अभी भी साइबर अपराध से निपटने के लिए संसाधन और आम जनता में जागरूकता की बेहद कमी है। अगर डिजिटल इंडिया का सपना साकार करना है तो संसाधन के साथ आम जनता में इसके लिए और जागरूक करना बेहद जरूरी है।  डेबिट/क्रेडिट कार्ड से संबंधित अपराध में सबसे ज्यादा बढ़ोतरी : नोटबंदी के बाद डेबिट/क्रेडिट कार्ड से ट्रांजेक्शन में तेजी आई। इसी का फायदा साइबर अपराधियों ने उठाया। उन्होंने डेबिट/क्रेडिट कार्ड क्लोनिंग और अपग्रेडेशन के नाम पर जानकारी एकत्र कर ठगी को अंजाम देना प्रारंभ किया। इसी का नतीजा है कि डेबिट/क्रेडिट कार्ड संबंधी अपराध में तेजी से इजाफा हुआ।