पूर्व PM मनमोहन की बढ़ सकती है मुश्किलें, CWG गेम्स की रिपोर्ट PAC ने स्वीकारी


नई दिल्ली (10 अप्रैल): 2010 कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स घोटाले को लेकर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की मुश्किलें बढ़ती दिख रहीं हैं। पब्लिक अकाउंट कमेटी यानी PAC ने उस रिपोर्ट को स्वीकार कर लिया है जिसमें पूर्व पीएम पर कई तरह के आरोप लगाए गए थे।

इनमें मनमोहन सिंह के पीएम रहते सुरेश कलमाड़ी को इन गेम्‍स के आयोजन कमेटी का अध्‍यक्ष चुनने और इस दौरान हुए भ्रष्‍टाचार पर सवाल खड़े किए गए थे। बताया जा रहा है कि PAC ने 14 जनवरी 2005 को तत्‍कालीन पीएम मनमोहन सिंह की अध्‍यक्षता में हुई मंत्रियों की बैठक और इसमें दिए गए खेल मंत्रालय के बयानों को भी खारिज कर दिया है।


इस रिपोर्ट में कहा गया है कि जब तत्‍कालीन पीएम मनमोहन सिंह के पास इस प्रोजेक्‍ट को लेकर बात आई थी तो उन्‍होंने इसकी जिम्‍मेदारी दूसरे को देने की बजाए पहले से निर्धारित कार्यक्रम के मुताबिक इसको आगे बढ़ाने का निर्णय लिया था। इसके अलावा इसकी रिपोर्ट बनाने में भी करीब दो माह की देरी की गई। रिपोर्ट के मुताबिक राजनीतिक दबाव की वजह से इस दौरान केबिनेट सचिवालय इस बाबत जिम्‍मेदारी तय करने में भी नाकाम रहा। वहीं यूपीए 2 के दौरान इस पर विचार किया गया।


बीजेपी नेता मुरली मनोहर जोशी की अगुआई में बनी PAC ने इस बाबत CAG की रिपोर्ट का गहनता से अध्‍ययन किया जिसमें कॉमनवेल्‍थ्‍ा गेम्‍स के आयोजन में अनियमितता बरतने की बात कही गई थी। PAC ने CBI से इसकी दोबारा जांच करने के लिए भी कहा था। इस संबंध में करीब 33 मामले दर्ज किए गए थे जिसमें से कुछ सुरेश कलमाड़ी और कुछ उनके करीबी सहयोगियों पर दर्ज थे।


गौरतलब है कि दिल्‍ली में 3-14 अक्‍टूबर 2010 के बीच राष्‍ट्रमंडल खेलों का आयोजन किया गया था। इसके आयोजन में अनियमितता बरतने को लेकर कांग्रेस के कई बड़े नेताओं पर भ्रष्‍टाचार के गंभीर आरोप लगे थे। राष्ट्रमंडल खेल समिति के तत्‍कालीन अध्यक्ष सुरेश कलमाड़ी पर भी कई संगीन आरोप आरोप लगे थे। उनके अलावा करीब दस लोगों पर सीबीआई ने भ्रष्‍टाचार के आरोप भी तय किए थे।