CRFP ने नहीं रुकने दिया रोड़ का काम, इसलिए बौखलाए नक्सलियों ने किया हमला

सुकमा (24 अप्रैल): सुकमा में नक्सलियों ने सीआरपीएफ की 74वीं बटालियन पर घात लगाकर हमला बोला। बुरकापाल और चिंतागुफा के बीच उन्होंने जवानों को चारों तरफ से घेर लिया और फिर ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी। जिसमें 24 जवान शहीद हो गए। जबकि कई जवान घायल हो गए।


हमले की जगह पर सड़क बनाने का काम चल रहा था। इसे रोकने के लिए नक्सली लगातार धमकी दे रहे थे, लेकिन सीआरपीएफ की 74वीं बटालियन के जवानों ने माओवादियों के गढ़ में घुसकर उन्हें चुनौती दी थी और यहां रोड़ बनाने के काम को रुकने नहीं दिया। इससे नक्सली बुरी तरह बौखलाए हुए थे।


सुकमा और आस-पास के इलाके में लंबे समय से नक्सलियों के खिलाफ जबर्दस्त अभियान चल रहा है। बावजूद इसके माओवादी इस बार कामयाब हो गए। मार्च में भी नक्सलियों ने सुकमा में ही बड़ा हमला किया था। 11 मार्च को नक्सलियों के हमले में यहां 12 जवान शहीद हो गए थे।


हालांकि सुकमा में 2010 में नक्सली हमले में 76 जवान शहीद हो गए थे। हमले की खबर मिलते ही छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह ने इमरजेंसी मीटिंग बुलाई।