बिहार में बदमाश और नेता सभी बेकाबू

अमिताभ ओझा, पटना (19 जनवरी): बिहार में नीतीश को सरकार बनाए हुए अभी 2 महीने भी नहीं बीते हैं कि एक बार फिर जंगलराज की वापसी के आरोप लगने शुरू हो गए हैं। बदमाश तो बदमाश नीतीश के नेता और विधायक भी बेकाबू हो चुके हैं। जेडीयू के एक विधायक पर महिला के साथ राजधानी ट्रेन में बदसलूकी का आरोप है तो जेडीयू की ही एक महिला विधायक का आरोपी पति थाने से फरार हो गया।

पूर्णिया की एमएलए और पूर्व मंत्री बीमा भारती के पति अवधेश मंडल को एक गवाह को धमकाने का आरोप है। पुलिस ने बीमा भारती के पति अवधेश मंडल को गिरफ्तार किया, लेकिन अभी दो घंटे भी गिरफ्तारी के नहीं हुए थे कि जेडीयू समर्थकों ने मरंगा थाने पर हमला बोल दिया। पुलिसवाले कुछ समझ पाते उससे पहले ही जेडीयू समर्थकों ने थाने से ही एमएलए के पति अवधेश को फरार करवा दिया।

वहीं जदयू के विधायक सरफराज आलम पर राजधानी एक्सप्रेस में सफर कर रही दिल्ली की महिला ने बदसलूकी का आरोप लगाया है। महिला का आरोप है कि डिब्रूगढ़-दिल्ली राजधानी एक्‍सप्रेस में विधायक ने उनके और उनके पति के साथ बदसलूकी की और भद्दी-भद्दी गालियां दी। चश्मदीदों के मुताबिक विधायक नशे में धुत थे और बार-बार विधायिकी का धौंस दिखाकर दंपती के साथ बदसलूकी कर रहे थे। जब ये मामला हद से गुजर गया तो ट्रेन में बैठे बाकी यात्री भी गुस्से में आ गए और विधायक सरफराज को पकड़ लिया, लेकिन उनके बॉडीगार्ड ने जैसे-तैसे हस्तक्षेप करके विधायक को छुड़ा लिया। अब दिल्ली के उस दंपति की शिकायत पर विधायक के खिलाफ केस दर्ज किया गया है।

बिहार में अभी नीतीश सरकार को पूरे 2 महीने भी नहीं बीते हैं कि राज्य में बढ़ती रंगदारी और अपहरण सरकार की गले की फांस बन गई है। पटना के आलम गंज में नर्सिंग होम चलने वाली एक डॉक्टर से 5 लाख की रंगदारी मांगी गई है तो वहीं 12 क्लास में पढ़ने वाले एक लड़के भी दिनदहाड़े संदिग्ध परिस्थितियों में गायब हो गया है। सवाल ये है कि जिस जंगलराज को खत्म करने और कानून के बलबूते लोगों ने नीतीश कुमार को चुना है, उस कानून को सख्ती से लागू करने में नीतीश सरकार क्यों फेल नजर आ रहे हैं?

देखिए पूरी रिपोर्ट:

[embed]https://www.youtube.com/watch?v=fKjSbl-BcN8[/embed]