लालू के बिहार में भगवान राम के खिलाफ मुकदमा

नई दिल्ली (31 जनवरी): एक तरफ जहां अयोध्या में राम मंदिर बनाने की तैयारियां हैं तो वहीं दूसरी ओर बिहार के सीतामढ़ी में एक वकील ने भगवान राम को महिला विरोधी बताते हुए उनके खिलाफ सीजीएम के खिलाफ आपराधिक मुकदमा दायर किया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मेजरगंज थाना क्षेत्र के डुमरी कला गांव निवासी अधिवक्ता ठाकुर चंदन कुमार सिंह ने भगवान रामचंद्र जी उर्फ भगवान राम जी व लक्ष्मण जी पर त्रेतायुग में हुई घटना को लेकर मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी के कोर्ट में एक मुकदमा दाखिल किया है।

इस याचिका में कहा गया है कि सीता जी पर भगवान राम ने अत्याचार किये थे।  जो महिला अपने पति के सुख-दुख में पूरी धर्म निष्ठा के साथ धर्मपत्नी होने का दायित्व निभा रही हो, उसको गर्भावस्था में घर से निकाल देना संज्ञेय अपराध है। ठाकुर चंदन सिंह ने अपने परिवाद पत्र में यह लिखा है कि यह मुकदमा लाने का उद्देश्य सीताजी को न्याय दिलाना है, न की किसी धर्म की भावना को ठेस पहुंचाना। उन्होंने यह भी लिखा है कि यह मुकदमा न्यायलय में लाने का आधार यह है कि सीताजी मिथिला की धरती की बेटी थी। परिवादी भी इसी धरती पर उत्पन्न हुआ है।