MP: पुजारी की पीट-पीटकर निर्मम हत्या, आरोपियों की तलाश में जुटी पुलिस

मध्य प्रदेश के शिवपुरी से हत्या करने का बड़ा ही हैरतअंगेज मामला सामने आया है। यहां एक मंदिर के पुजारी बाबा की भगवान के प्रसाद के पीछे कुछ बदमाशों ने बेरहमी से पीट-पीट कर हत्या कर दी।

MP: पुजारी की पीट-पीटकर निर्मम हत्या, आरोपियों की तलाश में जुटी पुलिस
x

शिवपुरी: मध्य प्रदेश के शिवपुरी से हत्या करने का बड़ा ही हैरतअंगेज मामला सामने आया है। यहां एक मंदिर के पुजारी बाबा की भगवान के प्रसाद के पीछे हैवानों ने बेरहमी से पीट-पीट कर हत्या कर दी। पूरा मामला जिले के सतनबाड़ा थाना क्षेत्र में स्थित खूबत बाबा मंदिर का है। पुलिस ने इस वारदात में शामिल सभी आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर आरोपियों की तलाश में जुट गई है।


दरअसल, सप्ताह भर पहले खूबत बाबा मंदिर पर पूजा अर्चना करने गए पुरानी शिवपुरी निवासी खेमचंद्र रजक के परिवार के लोगों और दोस्तों ने वहां के पुजारी संतोष पुत्र हेतराम शिवहरे की प्रसाद के लिए निर्मम मारपीट कर दी। इस मारपीट में संतोष शिवहरे बेहद गंभीर रूप से घायल हो गया। संतोष को इलाज के लिए जिला अस्पताल भर्ती कराया गया, जहां उसकी हालत लगातार बिगड़ती चली गई और 25 जनवरी को संतोष शिवहरे को इलाज के लिए ग्वालियर रैफर कर दिया गया, जहां उपचार के दौरान सोमवार को उसकी मौत हो गई। 



और पढ़िए - यूपी में एक डॉक्टर के 8 वर्षीय बेटे का अपहरण कर हत्या, वजह व हत्यारों के बारे में जान हो जाएंगे हैरान




बताया जा रहा है कि लाश के ग्वालियर से शिवपुरी आने पर आरोपियों पर हत्या का मामला दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार करने की मांग करते हुए एसपी ऑफिस का घेराव करने की योजना कुछ लोगों द्वारा बनाई गई थी। इस बात की जानकारी पुलिस को लग गई, जिस पर एसडीओपी अजय भार्गव ने पुलिस फोर्स के साथ पहुंच कर लाश को नवग्रह मंदिर पर ही रोक दिया। करीब एक घंटे तक चली समझाइश और उचित कार्यवाही के आश्वासन के बाद परिजन बिना किसी प्रदर्शन के अंतिम संस्कार करने के लिए राजी हुए।


पुलिस और स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों की मानें तो ग्वालियर में संतोष का कोविड टेस्ट कराया गया था। वहां उसकी कोरोना रिपोर्ट पॉजीटिव आई थी। ऐसे में विचारणीय पहलू यह भी है कि अगर संतोष पॉजिटिव था तो उसकी लाश परिजनों को कैसे सौंप दी गई। उसके अंतिम संस्कार में कोरोना गाइड लाइन का पालन क्यों नहीं किया गया?


मृतक संतोष के पिता की काफी पहले मृत्यु हो गई थी और छोटा भाई भी कुछ साल पहले एक हादसे में मौत के आगोश में समा गया था। संतोष की चार बहनों में से तीन की शादी हो गई थी, एक बहन और मां संतोष के सहारे ही थीं। बताया जा रहा है कि संतोष ने भी उनकी जिम्मेदारी निभाने के लिए शादी नहीं की थी। अब संतोष की मौत के बाद वह दोनों बेसहारा हो गईं हैं।


वहीें एसडीओपी ने बताया कि दोनों पक्षों का खूबत बाबा मंदिर पर झगड़ा हुआ था, संतोष शिवहरे को ग्वालियर रैफर किया गया जहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। संतोष कोरोना पॉजीटिव है ऐसा वहां हॉस्पिटल में बता रहे थे। लेकिन अभी कोई रिपोर्ट हमारे पास नहीं आई है। अगर कोरोना पॉजीटिव होगा तो अंतिम संस्कार में कोरोना गाइड लाइन का पालन होगा। 



और पढ़िए - क्राइम से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

Next Story