Noida News: 4 साल की बच्ची ने 8 माह के भाई को पिला दिया डीजल, अस्पताल में अबोध की मौत

उत्तर प्रदेश के नोएडा में एक दर्दनाक मामला सामने आया है। अनजाने में चार साल की बच्ची ने अपने आठ माह के भाई को डीजल पिला। बच्चे की तबीयत खराब होने पर परिवार वालों ने उसे अस्पताल में भर्ती कराया। जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

Noida News: 4 साल की बच्ची ने 8 माह के भाई को पिला दिया डीजल, अस्पताल में अबोध की मौत
x

नोएडाः उत्तर प्रदेश के नोएडा में एक दर्दनाक मामला सामने आया है। अनजाने में चार साल की बच्ची ने अपने आठ माह के भाई को डीजल पिला दिया। बच्चे की तबीयत खराब होने पर परिवार वालों ने उसे अस्पताल में भर्ती कराया,  जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। घटना से इलाके के लोग सहमे हुए हैं। 


घटना बुधवार देर रात नोएडा के छिजारसी गांव में हुई। मूलरूप से हरदोई के रहने वाले लवकुश कोतवाली सेक्टर-63 क्षेत्र के छिजारसी गांव में रहते हैं। यहां लवकुश एक फैक्ट्री में काम करते हैं। उनके दो बच्चे (चार साल की बेटी और आठ माह का बेटा) हैं। परिजनों से मिली जानकारी के मुताबिक बुधवार शाम को घर पर लवकुश की पत्नी और दोनों बच्चे थे। रात में आठ माह का बच्चा अचानक रोने लगा। इस पर उसकी चार साल की बहन ने उसे बोतल में रखा डीजल गलती से पिला दिया। इसके बाद बच्चा जोर-जोर से रोने लगा। बच्चे के चुप न होने पर लवकुश उसे चाइल्ड पीजीआई लेकर पहुंचे। जहां इलाज के दौरान बच्चे की मौत हो गई। सूचना पर कोतवाली-63 पुलिस अस्पताल पहुंच गई। बच्चे के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। 


घर में बोतल में रखा था डीजल

पुलिस की पूछताछ में सामने आया है कि घर में बोतल में डीजल रखा हुआ था। अभी यह साफ नहीं हुआ है कि घर में डीजल क्यों रखा था। हालांकि पुलिस का कहना है कि घटना अनजाने में हुई है। आशंका है कि बच्ची ने डीजल को पानी या फल का जूस समझा होगा। 


बच्चों के प्रति रहें सावधान

बाल मनोविज्ञानियों का कहना है कि 10 साल तक के बच्चे अपने से छोटे बच्चों को ज्यादा लाड़ (प्यार) करते हैं। कई बार माता-पिता की नजर हटने पर उन्हें गोद में उठा लेते हैं, जबकि वे उन्हें संभाल नहीं पाते। इसके अलावा कई बार प्यार में उन्हें ऐसी चीजें भी खिला-पिला देते हैं, जो उनके लिए हानिकारक साबित होती हैं। माता-पिता को जरूरत है कि छोटे बच्चों को कभी अकेला न छोड़ें। निगरानी बनाए रखें। कई बार खेल-खेल में अबोध बालकों की मौत की खबरें आती हैं। 

Next Story