एशेज सीरीज पर स्पॉट फिक्सिंग का साया, 'साइलेंट मैन' का नाम आया

नई दिल्ली (15 दिसंबर): इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेली जा रही एशेज सीरीज़ पर फिक्सिंग के आरोप लगे हैं। पर्थ में शुरू हो चुके तीसरे टेस्ट मैच से पहले फिक्सिंग के ये आरोप सामने आए हैं। क्रिकेट के दो दिग्गज देशों के बीच खेली जाने वाली एशेज सीरीज़ को दो भारतीय बुकी फिक्स करवाना चाहते थे और इसके लिए वो इंग्लैंड के एक बड़े अखबार के पास भी गए थे। 'द सन' का दावा है कि उसके पास 2 भारतीय बुकी आए थे जो एशेज सीरीज के तीसरे टेस्ट को फिक्स कराने की बात कर रहे थे। इसके एवज में बुकीज ने दावा किया था कि वो इससे करोड़ों रुपये कमा सकते हैं।

अखबार ने खुलासा किया कि उनके अंडर कवर रिपोर्टरों को फिक्सिंग के लिए 140, 000 पाउंड की मांग की गई और कहा गया कि वो बता सकते हैं कि इस ओवर में कितने रन बनेंगे। सट्टेबाजों ने कहा कि मैच से पहले वो बता देंगे कि किस ओवर में कितने रन बनने वाले हैं और आप उस ओवर पर अपना पूरा पैसा लगा सकते हैं। जब सट्टेबाजों से पूछा गया कि क्या ये एकदम पक्की जानकारी है तो उन्होंने कहा हां ये पूरी पक्की जानकारी है। वहीं अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए जांच के आदेश दे दिए हैं। '

हालांकि आईसीसी को इस बात का भरोसा नहीं है कि पर्थ टेस्ट मैच में कुछ गड़बड़ है। आईसीसी की भ्रष्टाचार निरोधी ईकाई के मुखिया एलेक्स मार्शल ने कहा कि मेरे द्वारा शुरुआती जांच में ऐसा कोई सबूत नहीं मिला है कि जिससे ये पता लगे कि ये मैच किसी तरह प्रभावित किया गया है। अभी तक की जांच में इस बात के कोई सबूत नहीं मिले हैं कि कोई भी खिलाड़ी सट्टेबाजों के साथ संपर्क में है। वहीं क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के चीफ जेम्स सदरलैंड ने कहा कि ये आरोप काफी गंभीर हैं लेकिन आईसीसी को डोजियर सौंपने के बाद वो आश्वस्त थे कि इस मैच पर उंगली उठाने का कोई तुक नहीं है। उन्होंने कहा कि सभी खिलाड़ियों को नियमित इस बारे में जानकारी दी जाती है। वहीं इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड ने कहा है कि उनका कोई भी खिलाड़ी इस तरह की गतिविधि में शामिल नहीं है।