Blog single photo

झारखण्ड का कुख्यात नक्सली जोड़ा हैदराबाद से गिरफ्तार, दिल्ली में भी लगा रहा था सेंध!

पुलिस के मुताबिक रवि शर्मा ने दिल्ली में ऑल इंडिया फोरम अगेंस्ट हिंदुत्व फासिस्ट का गठन किया था। इस फोरम की आड़ में वो दिल्ली में भी सेंध लगाने की कोशिश कर रहा था। अनुराधा इसी फोरम के बैनर तले बाग लिंगमपल्लै के सुंदरैया विज्ञान केंद्र में एक प्रेस कांफ्रेंस करने वाली थी। पुलिस ने यह भी बताया कि रवि शर्मा पिछले काफी समय से केंद्र और राज्य सरकार के खिलाफ षडयंत्र रच रहा था।

न्यूज 24 ब्यूरो, हैदराबाद (12 नवंबर): तेलंगाना की रचाकोंडा पुलिस ने मंगलवार को एक बड़े नक्सली जोड़े को गिरफ्तार किया है। इनकी मंशा दिल्ली में नक्सली  गतिविधि को अंजाम देने की थी।  ये दोनों 2016 से जमानत पर चल रहे थे। पुलिस को जानकारी मिली थी कि जमानत के दौरान ये दोनों फिर नक्सली गतिविधियों  में लिप्त हो चुके हैं। इन दोनों के नाम नरला रवि शर्मा और बेल्लापु अनुराधा है। रवि शर्मा की उम्र 54 साल और अनुराधा की उम्र 56 साल है। रवि शर्मा का दूसरा नाम राहुल भी है। वो माओवादी का सदस्य है और बिहार की स्टेट कमेटी का मेम्बर भी है।

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक मंगलवार की सुबह एक मुखबिर की इत्तला पर एलबी नगर की पुलिस ने मंसूराबाद स्थित विशालांध्रा कालोनी में इनके घर पर दबिश दी तो भारी मात्रा में माओवादी साहित्य, तीन लैपटॉप, पेन ड्राइव मेमरी कार्ड्स मिले हैं। इन में माओवादियों से हुए पत्राचार की जानकारियां भरी हुईं हैं।

पुलिस के मुताबिक रवि शर्मा ने दिल्ली में ऑल इंडिया फोरम अगेंस्ट हिंदुत्व फासिस्ट का गठन किया था। इस फोरम की आड़ में वो दिल्ली में भी सेंध लगाने की कोशिश कर रहा था। अनुराधा इसी फोरम के बैनर तले बाग लिंगमपल्लै के सुंदरैया विज्ञान केंद्र में एक प्रेस कांफ्रेंस करने वाली थी। पुलिस ने यह भी बताया कि रवि शर्मा उर्फ राहुल पिछले काफी समय से केंद्र और राज्य सरकार के खिलाफ षडयंत्र रच रहा था और विद्रोही गतिविधियों को प्रोत्साहित करने में जुटा हुआ था। पुलिस का मानना है कि रवि शर्मा उर्फ राहुल एक हार्ड कोर नक्सली है। उसके खिलाफ 11 मामले झारखण्ड में चार हैदराबाद में और एक मामला विशाखापट्टनम ग्रामीण के चिंतापल्ली में दर्ज है।

रवि शर्मा मूलतः कुरनूल जिले के तिरुनलापुरम का रहने वाला है। उसने आचार्य एनजी रंगा एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी से 1986 में बीएसएजी किया है। सबसे पहले वो  एक बड़े नक्सली मेकला दामोदर रेड्डी उर्फ मदन के संपर्क में आया और नक्सल दुनिया में आगे बढ़ता चला गया। नक्सली गतिविधियों को अंजाम देता हुए रवि शर्मा उर्फ राहुल 2003 से लेकर 2006 तक बिहार-झारखण्ड के का मिलिट्री अफेयर का इनचार्ज बन गया था। 

आखिरी बार 2009 में उसे झारखण्ड के हजारी बाग थाने की पुलिस ने गिरफ्तार किया था। सात साल जेल में गुजारने के बाद जब वो 2016 में बाहर तो गुपचुप तरीके देश में अराजकता फैलाने की गतिविधियों को अंजाम देने लगा था।

Images Courtesy: Google

Tags :

NEXT STORY
Top