राजीव गांधी ने खुलवाया था ताला, बीजेपी नहीं, कांग्रेस का प्रधानमंत्री ही बनवाएगा राम मंदिर- सीपी जोशी


न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (23 नवंबर): 2019 में होने वाले आम चुनाव से पहले पांच राज्यों में हो रहे विधानसभा चुनाव में भी अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का मुद्दा गर्म होता जा रहा है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री सीपी जोशी ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर बड़ा बयान दिया है। डॉ. सीपी जोशी ने बीजेपी पर राम मंदिर के मुद्दे पर राजनीति करने का आरोप लगाते हुए कहा है कि चुनाव आते ही बीजेपी को राम याद आने लगते हैं। जबकि अभी इसके टाइटल का विवाद सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है। भाजपा राम मंदिर का निर्माण नहीं करा सकती। राम मंदिर कांग्रेस ही बनवाएगी। कांग्रेस का प्रधानमंत्री ही राम मंदिर बनवाएगा। वर्ष 1985 में तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने ही उस विवादित परिसर का ताला खुलवाया था, जहां राम मंदिर है।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने बीजेपी पर आरोप लगाया कि वह मंदिर के नाम पर केवल वोट लेने की बात कह सकती है। हम आज कह रहे हैं टाइटल का फैसला होने दीजिए, सिविल सूट का मामला चल रहा है। वकील पढ़े-लिखे हैं। सिविल सूट का फैसला सुप्रीम कोर्ट तक (से) नहीं हो तब तक प्रधानमंत्री क्या कर सकते हैं?  ‘भारतीय जनता पार्टी चुनावी मौसम में राम मंदिर का मुद्दा उठाकर लोगों को भ्रमित कर रही है। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद कांग्रेस भव्य मंदिर बनाएगी।’ उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा चुनाव के दौरान लोगों को लगातार भ्रमित करने का कोई मौका नहीं चूक रही, जबकि तथ्य यह है कि यह मामला बीते चालीस साल से अदालत में लंबित है।

सीपी जोशी ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी अपने पूरे कार्यकाल में तथा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चार साल से अधिक समय में कुछ नहीं कर पाए। यह दीवानी मामला है और इसका फैसला सुप्रीम कोर्ट करेगा। उन्होंने जमीन का मालिकाना हक स्पष्ट हुए बिना ही अध्यादेश के जरिए मंदिर निर्माण की संभावना पर सवाल उठाया। उन्होंने कहा कि भाजपा में लोग कानून व संविधान को समझते हैं, इसलिए यह उनकी जिम्मेदारी है कि वे लोगों की भावनाओं का दोहन नहीं करें। जोशी ने कहा कि, ‘यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि भाजपा देश के लोगों को भ्रमित कर वोट लेना चाहती है।’