'रोड एक्सिडेंट के दोषी ड्राइवरों से ज्यादा सजा मिलती है गाय मारने वालों को'

नई दिल्ली(16 जुलाई): BMW केस में सजा सुनाते हुए अदालत ने अफसोस जताया कि एक्सिडेंट के दोषी ड्राइवरों से ज्यादा सजा गाय को मारने वालों को मिलती है। अडिशनल सेशन जज संजीव कुमार ने फैसले में कहा कि गाय को मारने वालों के लिए पांच, सात या 14 साल की सजा है, जो अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग है, लेकिन लापरवाह तरीके से की जा रही ड्राइविंग से व्यक्ति की मौत के लिए कानून में सिर्फ दो साल की सजा है।

- सजा सुनाने के साथ ही अदालत ने आरोपी को 50 हजार रुपये के बॉन्ड और उतने ही रकम की एक श्योरिटी पर जमानत दे दी, जिससे फैसले के खिलाफ हाईकोर्ट में अपील दायर कर सके।

- देश में सड़क हादसों के आंकड़ों पर आश्चर्य जताते हुए जज ने कहा कि मुझे मजबूरन यह कहना पड़ रहा है कि हमारा देश सड़क हादसों के रेकॉर्ड के लिए बदनाम है।

- जज ने जजमेंट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 'मन की बात' के तहत साल 2015 में दिए गए भाषण का जिक्र किया है। इसमें प्रधानमंत्री ने रोड सेफ्टी के मुद्दे पर गंभीरता दिखाते हुए कहा था कि वह एक रोड एक्सिडेंट के बारे में जानकार अचंभित रह गए जिसमें पीड़ित 10 मिनट तक खून से लथपथ सड़क पर पड़ा रहा लेकिन कोई भी उसकी मदद के लिए आगे नहीं आया। कोर्ट ने इस आदेश की एक कॉपी प्रधानमंत्री को भी भिजवाई है, जिससे वह आईपीसी की धारा 304ए के तहत अनुचित सजा के मुद्दे पर विचार कर सकें।