देश 'मजबूत सरकार' चाहता है, गठबंधन 'मजबूर सरकार' चाहता है: पीएम मोदी

न्यूज24 ब्यूरो, नई दिल्ली (12 जनवरी): मिशन 2019 के मद्देनजर दिल्ली के रामलीला मैदान में हो रही बीजेपी की दो दिवसीय राष्ट्रीय परिषद की बैठक का आज दूसरा दिन है। बैठक में हिस्सा लेने के लिए पीएम मोदी रामलीला मैदान पहुंचे। बीजेपी की राष्ट्रीय परिषद की बैठक में 10 हजार कार्यकर्ता, सभी सांसद और विधायक शामिल हो हुए हैं। 

बैठक में  बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा की,दो कमरों वाली पार्टी आज इतनी बड़ी सभा कर रही है यह बहुत बड़ी बात है। जो परिपाटी अटल जी हमारे लिए छोड़ गए हैं, उसे हमें मजबूत करना है,यह राष्ट्रीय परिषद की पहली बैठक है जो अटलजी के बिना हो रही है। वो आज जहां से भी हमें देख रहे होंगे, उन्हें अपने बच्चों की इस ऊर्जा औ राष्ट्र के प्रति समर्पण को देखकर संतोष हो रहा होगा। 

 पीएम मोदी ने बैंक लोन से लेकर भ्रष्टाचार तक सीधा कांग्रेस पर हल्ला बोलते हुए पीएम ने आरोप लगाया कि हम मजबूत सरकार चाहते हैं लेकिन गठबंधन मजबूर सरकार चाहता है।

केंद्र में बीजेपी की सरकार और राज्यों में 16 राज्यों में हम सरकार चला रहे हैं या गठबंधन में हैं।पीएम मोदी ने कहा कि,पहले की सरकार उसने देश को बहुत अंधेरे में धकेल दिया था। अगर मैं कहूं कि भारत में 2004-2014 के अहम दस साल घोटालों और भ्रष्टाचार के आरोपों में गंवा दिए तो गलत नहीं होगा, देश के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ जब सरकार भ्रष्टाचार का एक भी आरोप नहीं लगा है। हम सब इस बात पर गर्व कर सकते हैं।पीएम ने कहा कि, पिछले साढ़े चार साल में भाजपा के नेतृत्व में जिस तरह हमारी सरकारें चली है, उससे जनमानस में यह भाव स्थापित हुआ है कि देश को ऊंचाई पर अगर कोई दल ले जा सकता है तो वह सिर्फ और सिर्फ भाजपा है। बीजेपी ने साबित कर दिया है की देश बदल सकता है। आज देश का पाई-पाई राष्ट्रनिर्माण में लगाया जा रहा है।

साथ ही पीएम ने कहा कि स्वतंत्रता के बाद अगर सरदार वल्लभ भाई पटेल देश के पहले प्रधानमंत्री बनते तो देश की तस्वीर कुछ और ही होती, वैसे ही 2000 के चुनाव के बाद अगर अटल जी प्रधानमंत्री बने रहते तो आज भारत कहीं और होता। राष्ट्रीय परिषद में किसान, गरीब और वर्तमान राजनीति से जुड़े प्रस्ताव रखे गए हैं। हमारी कोशिश होनी चाहिए कि हमें इन प्रस्तावों में लिखी एक-एक बात याद हो। ये बातें घर-घर तक पहुंचनी चाहिए।

प्रधानमंत्री ने कहा कि इतने सारे लोगों का स्वेच्छा से रियायतें छोड़ देना, उद्यमियों का जीएसटी से जुड़ते जाना और आयकर भरने वालों की संख्या में जुड़ते जाना। यह इसलिए हो रहा है कि देश के निर्माण में हर कोई आगे आ रहा है। ऊर्जा से भरे युवा ही देश की शक्ति का, इसकी उम्मीदों का प्रतिनिधित्व करते हैं, देश के बीते 4 साल में देश के युवाओं ने इसका प्रदर्शन भी किया है। वो चाहे जितनी गलियां दें ये चौकीदार रुकने वाला नहीं है। 

राजस्थान, मध्यप्रदेश में अब दो टूक बात हो रही है कि सरकार चलानी है तो फलाना केस वापस लो, राजनीतिक गठबंधन विचारधारा के मिलने पर होते हैं लेकिन पहली बार ऐसा हो रहा है कि एक व्यक्ति के विरोध में गठबंधन हो रहा है। 

भाजपा सरकार के कार्यकाल ने ये साबित किया है कि सरकार बिना भ्रष्टाचार के भी चलाई जा सकती है और सत्ता के गलियारों में टलहने वाले दलालों को भी बाहर किया जा सकता है। पहले से जिनको आरक्षण की सुविधा मिल रही थी उनके हक़ को छेड़े बिना, छीने बिना भाजपा सरकार द्वारा सामान्य वर्ग को 10% आरक्षण का प्रावधान किया गया है। आज के युवा को पता है कि उसकी आवाज की सुनी जा रही है। वह जानता है कि उसके देश की शान मजबूत हो रही है। वह जानता है कि देश की आर्थिक और सामरिक हैसियत मजबूत हो रही है।