शक्तिकांत दास ने कहा, पुराने नोट गिनने में अभी लगेंगे कुछ और महीने

नई दिल्ली ( 4 मई ): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर 2016 की आधी रात से 500 और 1000 के नोटों पर पाबंदी लगा दी। नोटंबदी के बाद से बैंकों में जमा किए गए पुराने नोट की गिनती अभी जारी है और इसमें अभी कुछ और महीने लगेंगे, क्योंकि भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) एक-एक नोट गिन रहा है। आर्थिक मामलों के सचिव शक्तिकांत दास ने गुरुवार को यह बातें कहीं।


शक्तिकांत दास ने एक टीवी चैनल को दिए अपने इंटरव्यू में कहा, ‘मैं उम्मीद करता हूं कि अगले कुछ महीनों में नोट गिनने की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। आरबीआई की गिनने की क्षमता सामान्य स्थिति के मुताबिक है। लेकिन, यहां नोटबंदी के बाद प्रचलन में रहे 86 फीसदी नोट गिनने की जरूरत आ पड़ी है।’


उन्होंने कहा कि वित्त मंत्रालय आरबीआई के साथ मिलकर उन क्षेत्रों की पहचान कर रहा है, जहां नोटों की दोबारा गिनती की संभावना है क्योंकि नगदी बैंक की शाखाओं से उनके क्षेत्रीय कार्यालय और वहां से आरबीआई की करेंसी चेस्ट में जाती है। दास ने कहा कि पुराने नोटों की गिनती का काम काफी बड़ा है, क्योंकि एक-एक नोट गिने जा रहे हैं