वार्ड के नेता जी को बताना होगा 'कहां जाते हैं टायलट '... नहीं तो जायेगी कुर्सी

नई दिल्ली (11 मार्च): मुंबई के कॉरपोरेटर्स को अब जल्द ही एक एक सेल्फ सर्टिफिकेट के ज़रिए इस बात की घोषणा करनी होगी कि उनके घर में टॉइलट है और वो नियमित तौर पर इसका इस्तेमाल करते हैं। अगर टॉइलट नहीं है तो भी उन्हें सर्टिफिकेट देना होगा कि वह कम्युनिटी या पब्लिक टॉइलट का इस्तेमाल करते हैं। राज्य सरकार कॉर्पोरेशन ऐक्ट में संशोधन के लिए बिल लेकर आई है।

इसके तहत अगर कॉरपोरेटर्स सर्टिफिकेट जमा नहीं करेंगे तो उन्हें बर्खास्त कर दिया जायेगा। मुंबई सरकार ने म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन ऐक्ट, द महाराष्ट्र काउंसिल्स, नगर पंचायतें और इंडस्ट्रियल टाउनशिप्स (चौथा संशोधन) ऐक्ट, 2015 में संशोधन के लिए बिल पेश किया है। इस संशोधन को स्वच्छ महाराष्ट्र मिशन (शहरी) के हिस्से के तौर पर देखा जा रहा है। इसमें शहर को खुले में शौच से बिल्कुल मुक्त करने का लक्ष्य एक अहम हिस्सा है।