प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत सहकारी बैंक नहीं जमा कर सकेंगे पैसा

नई दिल्ली ( 20 जनवरी ): 50 फीसदी टैक्स चुकाकर काले धन को सफ़ेद करने वाली योजना में बदलाव किया गया है। अब सहकारी यानि को-ऑपरेटिव बैंक प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत पैसे जमा नहीं कर सकेंगे।

नोटबंदी के बाद से ही डिपॉजिट्स को लेकर को ऑपरेटिव बैंक आयकर विभाग के रडार पर हैं। पुराने नोटों के डिपॉजिट्स और कैश रिकार्ड्स में भारी गड़बड़ी की शिकायत की गई है। आयकर विभाग ने इस मामले में अपनी रिपोर्ट आरबीआई को भी भेजी है ताकि इसकी स्क्रूटिनी की जा सके। सरकार ने नोटबंदी के तत्काल बाद भी कोऑपरेटिव बैंकों को पुराने नोटों को जमा करने से मना किया था।

पीएसी की बैठक में RBI गवर्नर ने कहा...

गवर्नर उरिजित पटेल ने भी कोआपरेटिव बैंकों में गड़बड़ी की जानकारी पीएसी सदस्यों को दी है। यही वजह है कि को-ऑपरेटिव बैंको पर PMGKY के तहत डिपॉजिट्स लेने पर पाबंदी लगा दी गयी है।