नीति आयोग की बैठक में बोले पीएम मोदी, भारत के विकास की कुंजी है प्रतिस्पर्धी सहकारी संघवाद

न्यूज24, नई दिल्ली ( 17 जून ): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में नीति आयोग की गवर्निंग काउंसिल की रविवार को चौथी बैठक शुरू हो गई है। इस बैठक में पीएम मोदी ने कहा, 'नीति आयोग गवर्निंग काउंसिल एक ऐसा मंच है जो 'ऐतिहासिक बदलाव' ला सकता है। बाढ़ प्रभावित राज्यों के मुख्यमंत्रियों को आश्वसन दिया है कि ऐसी स्थिति से निपटने के लिए केंद्र सरकार उन्हे सभी तरह की सहायता मुहैया कराएगी।'बैठक में नोटबंदी और जीएसटी को लेकर भी चर्चा हुई। बैठक के शुरुआती संबोधन में पीएम मोदी ने वन नेशन वन टैक्स को साकार करने के लिए गुड्स ऐंड सर्विस टैक्स (जीएसटी) को लागू कराने में राज्यों की भूमिका को सराहा है। साथ ही पीएम मोदी ने कहा कि सहकारी, प्रतिस्पर्धी संघवाद भारत की विकास और प्रगति की कुंजी रखता है।इस बीच नीति आयोग के सीएम अमिताभ कांत ने ट्वीट कर कहा कि पीएम ने अपने संबोधन में स्वास्थ्य, शिक्षा और कृषि के अलावा आंकाक्षी जिलों पर फोकस किया। उन्होंने कहा कि बराबरी के साथ सबके विकास के लिए जरूरी है कि हम सब मिलकर काम करें।आपको बता दें कि नीति आयोग ने पिछड़े और बीमारू जिलों की शब्दावली को बदलते हुए 101 जिलों की एक लिस्ट बनाई है, जिन्हें आकांक्षी जिला (एस्पिरेशनल डिस्ट्रिक्ट्स) कहा जा रहा है। कुछ मानकों के आधार पर इन्हें भी विकास की दौड़ में सहभागी बनाने पर काम हो रहा है।नीति आयोग गवर्निंग काउंसिल की बैठक में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि नीति आयोग गवर्निंग काउंसिल एक ऐसा मंच है जो 'ऐतिहासिक परिवर्तन' ला सकता है। उन्होंने बाढ़ प्रभावित राज्यों के मुख्यमंत्रियों को आश्वासन दिया कि बाढ़ से निपटने के लिए केंद्र सरकार उन्हें सभी प्रकार की सहायता प्रदान करेगी।प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि नीति आयोग गवर्निंग काउंसिल ने सहकारी, प्रतिस्पर्धी संघवाद की भावना में "टीम इंडिया" के रूप में शासन के जटिल मुद्दों से संपर्क किया है।