बलात्कार के केस में ये 'बाबा' भी खा चुके हैं जेल की हवा


नई दिल्ली (28 अगस्त): डेरा सच्चा प्रमुख बाबा राम रहीम दो साध्वियों के साथ रेप के आरोप साबित होने के बाद उन्हें 10 साल के कैद की सजा सुनाई गई है। राम रहीम को रोहतक जेल में रखा गया है। राम रहीम साल 2002 में डेरा आश्रम में रहने वाली एक साध्वी ने चिट्ठी के जरिए यौन शोषण का आरोप लगाया था। इस मामले में हाईकोर्ट में अर्जी दाखिल की गई थी। इस पर सुनवाई के बाद अदालत के आदेश पर पूरे मामले की जांच सीबीआई को सौंपी गई। साल 2007 में सीबीआई ने कोर्ट में आरोप पत्र दाखिल किया था। राम रहीम पर रेप ही नहीं हत्या जैसे संगीन आरोप भी लगे हैं। डेरा की प्रबंधन समिति के सदस्य रणजीत सिंह की 10 जुलाई 2003 को हत्या कर दी गई थी। इसका आरोप भी राम रहीम पर लगा है। इसके साथ ही सिरसा के पत्रकार रामचंद्र छत्रपति की हत्या का भी आरोप है। पत्रकार रामचंद्र सिरसा में स्थानीय अखबार 'पूरा सच' निकालते थे। उसमें उन्होंने डेरा सच्चा सौदा से जुड़ी खबरें प्रकाशित करना शुरू किया था। उसमें साध्वी यौन शोषण और रणजीत सिंह हत्याकांड का खुलासा किया था।

आसाराम बापू
गुरमीत राम रहीम अकेले बाबा नहीं हैं जिनपर यौन शोषण का आरोप लगा है। कथित बाबाओं पर बलात्कार का आरोप कोई नया नहीं है। स्वयंभू संत आसाराम बापू पर एक नाबालिग लड़की से रेप का आरोप लगा है। इसका खुलासा साल 2013 में हुआ था।बताया जाता है कि आसाराम आशीर्वाद देने के बहाने लड़कियों से छेड़छाड़ और यौन शोषण करता था। आसाराम के खिलाफ गैरकानूनी रूप से जमीन हथियाने, तंत्र-मंत्र के लिए बच्चों की हत्या करने, रेप करने सहित कई अन्य मामलों में पुलिस जांच कर रही है। उनके बेटे नारायण साईं पर भी रेप के आरोप लगे थे। आसाराम जेल में बंद है, जबकि नारायण जमानत पर है।

नित्यानंद स्वामी
विवादित धर्मगुरुओं की लिस्ट में नित्यानंद स्वामी का नाम प्रमुखता से आता है। बाबा उस वक्त सुर्खियों में आ गए थे जब 2010 में एक एक्ट्रेस के साथ सेक्स करते हुए उनकी कथित सीडी एक टीवी चैनल पर प्रसारित की गई थी। उनके ऊपर कई मामले चल रहे हैं, हालांकि, अब तक उन्हें दोषी नहीं ठहराया गया है। 2012 में नित्यानंद स्वामी पर बलात्कार का आरोप भी लगा था। इसके बाद कई दिनों तक गायब रहे थे। पुलिस कार्रवाई में स्वामी के बंगलुरु के पास स्थित आश्रम से कंडोम और गांजा बरामद हुआ था। एक महिला ने टीवी चैनल पर आकर आरोप लगाया था कि स्वामी लंबे वक्त से उनका रेप कर रहा था।


स्वामी परमानंद
यूपी के बाराबंकी रहने वाले बाबा राम शंकर तिवारी उर्फ स्वामी परमानंद पर बच्चा पैदा करने के नाम पर महिलाओं के यौन शोषण का आरोप लगा था। बाबा पर आरोप था कि वो उन महिलाओं का यौन शोषण करता जो बच्चे न हो पाने की वजह से परेशान थीं। महिलाएं इलाज के लिए बाबा के पास आती थीं। बाबा दावा करता था कि उसके आश्रम में पूजा करवाने वाली सभी महिलाओं को बेटा हुआ है। बाबा कई वर्षों से इस कृत्य को अंजाम दे रहा था, लेकिन खुलासा वीडियो वायरल होने पर हुआ। दरअसल स्वामी परमानंद का पर्सनल कंप्यूटर एकबार खराब हो गया। उसने इसे इंजीनियर के पास भेजा। इंजीनियर ने कंप्यूटर में मौजूद वीडियो जब देखा, तो आवाक रह गया। इस स्वामी के काले कारनामे मौजूद थे। उसने वीडियो को वायरल कर दिया। इसके बाद पुलिस ने कई दिनों की मेहनत के बाद स्वामी को गिरफ्तार कर लिया। बाबा ने 100 से अधिक महिलाओं के यौन शोषण की बात कबूली थी। उस पर रेप, हत्या के प्रयास, लूट और जालसाजी सहित कुल 11 आपराधिक केस दर्ज किए गए थे।

स्वामी भीमानंद
इस लिस्ट में इच्छाधारी मीमानंद महाराज का नाम भी प्रमुखता से आता है। दिल्ली पुलिस ने एकबार फिर भीमानंद महाराज को सेक्स रैकेट चलाने के आरोप में गिरफ्तार किया है। इसले पहले भी भीमानंद को 2009 में गिरफ्तार किया चुका है और वो जमानत पर बाहर आ गया था। उस वक्त भी भीमानंद महाराज पर देह व्यापार के आरोप लगे थे।