चीन को टक्कर देने कि लिए भारत की बड़ी तैयारी

नई दिल्ली(21 नवंबर): चीन से करीब 2 महीने तक चले डोकलाम विवाद के बाद भारत ने अपनी सीमा की सुरक्षा के लिए मजबूत कदम उठाने शुरू कर दिए हैं। इसी के तहत उत्तराखंड में 150 किलोमीटर लंबी टनकपुर-पिथौरागढ़ सड़क का निर्माण कार्य शुरू किया गया है। 

- इस सड़क के बनने से सुरक्षाबलों और हथियारों को तेजी से भारतीय-चीन सीमा तक पहुंचाया जा सकेगा। 

- पीएम नरेंद्र मोदी ने इस साल से शुरुआत में उत्तराखंड विधानसभा चुनावों के दौरान 'ऑल वेदर रोड प्रॉजेक्ट' की घोषणा की थी। इस सड़क के 2019 तक बन जाने की उम्मीद है। इस सड़क के बनने से आपात समय में भारत-चीन सीमा पर सुरक्षाबलों और हथियार को तुरंत वहां पहुंचाने में काफी आसानी होगी। 

- NH 125 एग्जिक्युटिव इंजिनियर एलडी माथेला ने कहा, 'टनकपुर से पिथौरागढ़ के लिए 150 किलोमीटर लंबे इस सड़क का निर्माण युद्धस्तर पर जारी है। इस प्रॉजेक्ट के पूरा होने का समय 2019 है। इस डेडलाइन के अंदर ही काम पूरा होने की उम्मीद है क्योंकि इस रूट में न तो कोई पुल बनेगा न कोई सुरंग खोदी जानी है।' 

- उन्होंने बताया कि इस परियोजना की कुल लागत 1,065 करोड़ रुपये है। इस परियोजना का निर्माण इंजिनियरिंग प्रोक्युर्मन्ट ऐंड कंस्ट्रक्शन (EPC) के तहत किया जाएगा। उन्होंने कहा कि 12 मीटर चौड़े इस रोड का निर्माण की समयसीमा 2019 तक की है।

- NHAI ने इसकी समयसीमा और लागत तय किया है। इस सड़क का निर्माण पूरा हो जाने के बाद आपात समय के समय सुरक्षाबलों को तुरंत सीमा पर पहुंचाया जा सकता है। इस साल के शुरू में पीएम मोदी ने विधानसभा चुनावों के दौरान इसका शिलान्यास किया था।