26 साल बाद अयोध्या में गांधी परिवार, राहुल गांधी ने हनुमानगढ़ी मंदिर में की पूजा

नई दिल्ली (9 सितंबर): राहुल गांधी अयोध्या में महंत ज्ञानदास से मिलने पहुंचे हैं। राहुल को यहां हनुमानगढ़ी मंदिर में पूजा की। इस  के बाद राहुल महंत ज्ञानदास से मुलाकात करने पहुंचे हैं।

सबसे खास बात ये है कि राहुल अयोध्या दौरे पर राम जन्मभूमि पर रामलला के दर्शन करने नहीं जाएंगे। उत्तर प्रदेश के 2017 के महासंग्राम का रास्ता अयोध्या होकर जाता है। शायद ये बात कांग्रेस को भी महसूस हो गई है। इसलिए खाट यात्रा के जरिए विरोधियों की खाट खड़ी करने में जुटे राहुल आज अयोध्या पहुंच रहे हैं।

1992 में अयोध्या में बाबरी ढांचे को गिराए जाने के बाद राहुल नेहरू-गांधी परिवार से अयोध्या आनेवाले पहले सदस्य हैं। राहुल के पिता राजीव गांधी को 1990 में अपनी ‘सद्भावना यात्रा’ के दौरान हनुमान गढ़ी मंदिर जाना था, लेकिन तब व्यस्तता की वजह से वो यहां नहीं आए थे। राजीव गांधी से पहले इंदिरा गांधी 1960 में अयोध्या आई थीं। 

राहुल अयोध्या तो आएंगे लेकिन रामजन्मभूमि पर रामलला के दर्शन करने जाने का उनका कार्यक्रम नहीं है। हनुमान गढ़ी मंदिर रामजन्मभूमि से जुड़ी विवादित जमीन से महज एक किलोमीटर दूर है। राहुल अयोध्या-फैजाबाद होते हुए अंबेडर नगर जाएंगे, जहां आज शाम एक दरगाह में भी माथा टेकेंगे। 

राहुल के इस दौरे का मकसद शायद ये संदेश देना है कि कांग्रेस किसी एक धर्म या मजहब की बात नहीं करती। वो सबको साथ लेकर आगे बढ़ने में भरोसा करती है। लेकिन विरोधी इसे छलावा बता रहे हैं।