स्मृति ईरानी पर कांग्रेस ने घोटाले का लगाया आरोप, मांगा इस्‍तीफा

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (14 मार्च): लोकसभा चुनाव के मद्देनजर आरोप-प्रत्यारोप की सियासत जोरों पर है। तमाम पार्टियां एक-दूसरे के खिलाफ जमकर आरोप-प्रत्यारोप लगा रहे हैं। इसकी कड़ी में कल केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने रॉबर्ट वाड्रा समेत प्रियंका गांधी और राहुल गांधी पर जमीन घोटाले में शामिल होने का आरोप लगाया था। वहीं आज कांग्रेस ने स्मृति ईरानी पर पलटवार किया है। कांग्रेस ने स्‍मृति ईरानी पर सांसद निधि के दुरुपयोग का आरोप लगाया है। कांग्रेस प्रवक्‍ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने इसे बड़ा घोटाला बताते हुए, जांच की मांग की है। रणदीप सिंह सुरजेवाला ने प्रेस कॉन्‍फ्रेंस कर कहा है कि, 'केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने सांसद निधि का दुरुपयोग किया। करीब छह करोड़ रुपये के काम को बिना किसी टेंडर के एक कंपनी को दे दिया गया। इसके साथ फर्जी तरीके से पेमेंट की गई है। उनके खिलाफ मामला बनता है और उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जाना चाहिए। सबसे पहले स्‍मृति ईरानी जी को पद से हटाकर कर जांच शुरू कर देनी चाहिए, ये बहुत गंभीर मामला है। कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से स्मृति ईरानी को मंत्रिमंडल से हटाने और उनके खिलाफ कार्रवाई की भी मांग की है।

कांग्रेस का आरोप है कि स्मृति ईरानी ने सांसद बनने के बाद एक गांव गोद लिया था, दरअसल उन्होंने गांव गोद नहीं लिया, बल्कि गांव को मिलने वाले पैसे अपने जेब के अंदर किए। आणंद जिले के कलेक्टर ने संसद निधि जारी करने वाले डिप्टी सचिव को एक लेटर लिखा था। इसमें खुलासा हुआ कि स्मृति ईरानी ने अपने सांसद निधि में घोटाला किया।'  स्मृति ईरानी के कहने पर नियमों को ताक पर रखकर शारदा मजदूर कामदार मंडली को बिना निविदा के ही 232 कार्यों के ठेके और 5.93 करोड़ रुपये का भुगतान करने के लिए दोषी ठहराया है, जिसमें 84.53 लाख रुपये का फर्जी भुगतान शामिल है। लेक्टर ने जब कुछ कामों की जांच करायी तो पता चला कि कहीं कोई काम नहीं हुआ। सब कुछ फर्जी है। तब कलेक्टर ने कहा कि उनसे करीब 4 करोड़ की रिकवरी की जाए।'  कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी भयमुक्त भ्रष्टाचार करती है। हम मांग करते हैं कि मोदी जी श्रीमती स्मृति ईरानी को मंत्रीपद से तुरंत बर्खास्त करें और भ्रष्टाचार निरोधक कानून तथा भारतीय दंड संहिता की दूसरी धाराओं में मुकदमा दर्ज किया जाए। जरुरत पड़ी तो हम अदालत के माध्यम से स्मृति ईरानी पर एफआईआर भी दर्ज करायेंगे।